सीधी बस हादसा: परिजनों से मिले शिवराज, सिर और कंधे पर रखा हाथ, बोले मैं हूँ चिंता न करें 

सीधी, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश के सीधी (Sidhi) जिले में मंगलवार को सुबह हुए बस हादसे ने प्रदेश को हिला कर रख दिया।  जिसने भी ये खबर सुनी या देखी उसके मुंह  इतना ही निकला कि हे भगवान् ये क्या हो गया ? मंगलवार को यात्रियों से भरी बस सोन नदी पर बने बाणसागर बांध की मुख्य नहर में समा गई। बुधवार सुबह 4 और शव नहर से निकाले गए, इसके साथ ही मृतकों की संख्या 51 पहुंच गई है। प्रशासन के अनुसार अब कोई लापता नहीं है।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Shivraj Singh Chauhan) आज बुधवार को बस हादसे (Bus Accident) में मारे गए मृतकों के घर पहुंचे और परिजनों को ढांढस बंधाया। उन्होंने कहा कि वे कल ही आना चाहते थे लेकिन रेस्क्यू ऑपरेशन में बाधा ना पहुंचे इसलिए आज आये हैं। उन्होंने हादसे में मारे गए लोगों के परिजनों से मुलाकात की और कहा आप चिंता ना करें मैं और सरकार आपके साथ है।

दुःख की इस घडी में परिवार के साथ खड़े हैं, सात लाख का चैक भेंट किया  

मुख्यमंत्री ने कहा कि मेरे जो बेटे-बेटी और भाई-बहन इस दुर्घटना में चले गये, हम उन्हें अब वापस तो नहीं ला सकते हैं, परंतु उन परिवारों की जिंदगी कैसे आसान बने, इसकी हरसंभव कोशिश करेंगे।असमय काल कवलित होने वालों को हम लौटा नहीं सकते हैं, परंतु दु:ख की इस घड़ी में परिवार के साथ खड़े हैं। आत्मा को झकझोर देने वाले सीधी बस हादसे में हताहत हुए परिवारों को 7 लाख रुपये का चेक भेंट किया। ईश्वर दिवंगत आत्माओं को अपने श्री चरणों में स्थान दें, यही करबद्ध प्रार्थना!

परिजनों को बंधाया ढाँढस , सिर और कंधे पर रखा हाथ 

मुख्यमंत्री ने इस हादसे में अपनी पत्नी और बेटी को खोने वाले अनिल गुप्ता के रामपुर नैकिन स्थित घर पहुंचकर संवेदना प्रकट की। सीधी बस दुर्घटना में असमय काल कवलित होने वाले चुरहट के स्व. शिवभान पाल के परिजनों से भेंटकर संवेदना प्रकट की और सहायता राशि का चेक सौंपा।

 

2 वर्षीय अधर्व को खोने वाले परिवार से मिलकर दी सांत्वना 

मुख्यमंत्री ने कहा ईश्वर इस वज्रपात को सहन करने की शक्ति परिजनों को दें, यही प्रार्थना करता हूं। हम सब शोकाकुल परिवार के साथ हैं और हरसंभव सहायता करेंगे। उन्होंने कहा कि दुर्भाग्यपूर्ण सीधी बस दुर्घटना में हताहत श्रीमती पिंकी गुप्ता और उनके  2 वर्षीय पुत्र अथर्व के रामपुर नैकिन स्थित निवास पर पहुंचकर संवेदना प्रकट की। हम सभी शोकाकुल परिवारों के साथ हैं। मुख्यमंत्री रामनगर-चुरहट के स्व. श्यामलाल साकेत के निवास पर पहुंचकर परिजनों को सांत्वना दी और सहायता राशि का चेक सौंपा। उन्होंने कहा कि  आवास योजना के तहत परिवार को मकान दिये जायेंगे। दु:ख की इस घड़ी में हम सब शोकाकुल परिवार के साथ हैं।

पुलि‍स ने बस के चालक को ग‍िरफ्तार कर ल‍िया

नहर में गिरी बस के चालक को बालेंदु को रामपुर नैकिन पुलिस ने दबिश देकर उसके घर पर पकड़ लिया है। रामपुर नैकिन थाने में पुलिस चालक से घटनाक्रम को लेकर बातचीत कर रही है।  ड्राइवर का कहना है कि अचानक बस में आवाज आई और वह सड़क से उतरकर नहर में चली गई। मेरे पहले एक लड़की बस से निकली और फिर मैं, ग्रामीणों ने रस्सी के जरिए हमें बाहर निकाला। घटना के बाद से ड्राइवर फरार हो गया था, जिसे पुलिस ने दबिश देकर पकड़ा है।
हादसे में प्रभावित यात्री सीधी, रीवा, सिंगरौली व सतना जिले के निवासी हैं।

बहादुर बेटी शिवरानी के सिर पर रख हाथ 

मुख्यमंत्री ने अपनी जान की परवाह किये बिना नहर में छलांग लगाकार खुद दो और भाई एवं एक महिला के साथ कुल सात जिंदगियां बचाने वाली बहादुर बेटी शिवरानी से भी मुलाकात की  उसे आशीर्वाद दिया।
मुख्यमंत्री ने कहा कि सीधी बस दुर्घटना में लोगों की जान बचाने वाली बहादुर बेटी शिवरानी समाज, प्रदेश और देश का गौरव है। दूसरों के जीवन की रक्षा के लिए अपने प्राणों की बाजी लगाने वाली बेटी की पढ़ाई की व्यवस्था हमारी सरकार करेगी। बेटी को उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं!

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here