Balaghat: सर्पदंश से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत

dead body found in a room

बालाघाट।सुनील कोरे

वारासिवनी थाना अंतर्गत ग्राम बोट्टेझरी में बीती रात सर्पदंश से एक ही परिवार के तीन लोगो की मौत हो गई। मृतको मंे नाना और उसके दो नाती है। बताया जाता है कि 55 वर्षीय गन्नालाल पिता दागया मेश्राम की झोपड़ीनुमा मकान है, जहां वह निवास करता था। जिसकी बेटी का विवाह सिवनी क्षेत्र अंतर्गत बोंडुदा में हुआ था। जो लॉक डाउन के पहले अपने मायके बोट्टेझरी आई थी, जिसके बाद लॉक डाउन होने से वही यही पर थी। जिसके दो बेटे दिव्यांग 16 वर्षीय राजेश पिता अशोक मोजे और 8 वर्षीय राहुल पिता अशोक मोजे, उसी के साथ नाना-नानी के यहां थे।

बीती 28 जून की रात लगभग 9 बजे खाना-खाने के बाद परिवार के सभी लोग सो गये थे। जहां गन्नालाल की पत्नी बायवंताबाई और बेटी पास ही खटिया में सोये थे। वहीं गन्नालाल अपने दो नाती राजेश और राहुल के साथ नीचे जमीन पर सोया था। रात लगभग एक बजे गन्नालाल नींद से उठा और कान में किसी जंतू के काटने की बात बोलने लगा। जिसके कुछ देर बाद वह उल्टियां करना लगा और उल्टी बंद होने पर सो गया। रात लगभग 4 बजे गन्नालाल की पत्नी बायवंताबाई उठी तो उसने पति गन्नालाल और उसके साथ सोये नाती राजेश और राहुल को उठाने लगी तो उनमें कोई हलचल नहीं हुई। जिससे घबराई बायवंताबाई ने पड़ोसी दिनेश वट्टी को आवाज लगाकर बुलाया। जिसके बाद डॉक्टर को बुलाया गया। जहां चिकित्सक ने उन्हें मृत घोषित कर दिया।

घटना की जानकारी आज सुबह लगभग 6 बजे वारासिवनी पुलिस को मिली। जिसके बाद एएसआई लक्ष्मी पटले, हमराह स्टॉफ के साथ घटनास्थल पहुंचे। जहां उन्होंने तीनो मृतक 55 वर्षीय गन्नालाल पिता दागया मेश्राम और दो दिव्यांग बालक राजेश और राहुल का शव बरामद कर पंचनामा कार्यवाही के उपरांत शव के पीएम के लिए वारासिवनी चिकित्सालय भिजवाया। जहां शव का पीएम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया है।  सर्पदंश से एक ही परिवार के तीन लोगों की मौत होने की घटना से पूरे गांव में मातम का माहौल है। मृतकों के पीएम के बाद सभी तीनों का अंतिम संस्कार, गांव में ही किया गया। इस मामले में वारासिवनी पुलिस ने मर्ग कायम कर जांच में लिया है।