तो क्या हवाई यात्रा कर इंदौर में कोरोना ने दी थी दस्तक

इंदौर। आकाश धौलपुरे

इंदौर में कोरोना को लेकर हालात दिन ब दिन बिगड़ते जा रहे है। जहां कोरोना के फेर में आकर अब तक शहर के 47 लोगो ने अपनी जान गंवा दी है वही दूसरी ओर 800 से अधिक लोग अब तक कोरोना पॉजिटिव होकर, कोरोना से जंग लड़ रहे है। ऐसे में सवाल ये भी उठ रहे है कि देश के नम्बर 1 स्वच्छ शहर में कोरोना आया कहा और किस जरिये ? इस बात का जबाव आज इंदौर कलेक्टर मनीष सिंह ने दे दिया है। उन्होंने साफ कर दिया है कि जनवरी – फरवरी माह में एयरपोर्ट से आये यात्रियो से कोरोना इंदौर में फैला है। बता दे कि जनवरी – फरवरी माह में इंदौर कलेक्टर के पद मनीष सिंह नही थे। कलेक्टर मनीष सिंह ने आज ये माना कि एयरपोर्ट के जरिये ही शहर में कोरोना फैला है और जनवरी – फरवरी के समय क्या डायरेक्शन थे और क्या कार्रवाई की गई थी इस संबंध में अब तक समयाभाव के कारण उन्हें जानकारी नही मिल पाई है। उन्होंने साफ किया कि जनवरी – फरवरी माह में बाहर से 5 से 6 हजार लोग आए थे उनकी स्क्रीनिंग और होम क्वांरन्टीन सख्ती से की जानी थी। वही बाहर से हवाई यात्रा कर इंदौर में जो लोग आए थे वो उस समय शहर में चल रहे आंदोलन में भी शामिल हुए थे।

हालांकि इस मामले को लेकर एयरपोर्ट प्रबंधन पर अब सवाल उठ रहे है जिसका जबाव पाने के लिये हमने एयरपोर्ट डायरेक्टर आर्यमा सान्याल से फोन पर सम्पर्क किया तो उन्होंने फोन नही उठाया। हालांकि एयरपोर्ट प्रबंधन अपनी सफाई जरूर देगा लेकिन वर्तमान कलेक्टर द्वारा जाहिर की गई आशंका और सम्भावना में दम इसलिए भी क्योंकि मार्च माह की शुरुआत में भी इंदौर में कोरोना को लेकर सजगता नही थी लिहाजा एयरपोर्ट प्रबंधन ही बता पायेगा की, उस समय वो कोरोना को लेकर कितने तैयार थे और क्या – क्या सतर्कता दो माह पहले से बरती जा रही थी।