तो क्या 5 अन्य कांग्रेसी MLA बीजेपी के संपर्क में, “नाथ” ने विधायकों से की गुपचुप चर्चा

भोपाल.

मध्यप्रदेश में सियासी उथल पुथल(Political upheaval in Madhya Pradesh) जारी है।प्रदेश में उपचुनाव(By- election) के तारीखों की घोषणा अबतक भले ही नहीं हुई बावजूद इसके दोनों पार्टियों की तरफ से तैयारियां जोरों पर है। एक तरफ जहाँ कांग्रेस(congress) अपने विधायकों(MLAs) को समेटने के साथ साथ बीजेपी(BJP) के रूठे नेताओं को साधने में लगी है। वहीँ दूसरी तरफ भाजपा की नजर कांग्रेस के 5 और विधायकों को अपनी तरफ करने में लगी है। चर्चा है कि इनमें बुंदेलखंड(Bundelkhand) से 4 और महाकौशल से 1 विधायक भाजपा के संपर्क में हैं। जिसके बाद कांग्रेस ने अपने खेमे के इन विधायकों से संपर्क साधना शुरू कर दिया है। वहीँ प्रदेश कांग्रेस पल पल इन पर नजर बनाये हुए हैं।

दरअसल कांग्रेसी खेमे में मंगलवार को उस समय हलचल तेज हो गई। जब दमोह के विधायक राहुल सिंह(Damoh MLA Rahul Singh) और बंडा विधायक तरबर सिंह(Banda MLA tarbar Singh) के बीजेपी में शामिल होने की अटकलें तेज हुई। जिसके तुरंत बाद प्रवेश आलाकमान ने स्थिति को अपने पक्ष में रखने के लिए मोर्चा संभाला। इसके साथ ही पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ ने दमोह और बंडा दोनों विधायकों को अपने घर बुलाकर उनसे करीबन 1 घंटे तक चर्चा की। हालांकि बंद कमरे में हुई चर्चा के बाद जब दोनों विधायक पूर्व मुख्यमंत्री की आवाज से बाहर निकले तो मीडिया से बात करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने अपना सफर कांग्रेस पार्टी से ही तय किया है और आगे भी अपना सफर कांग्रेस में ही जारी रखेंगे। इसके साथ ही दोनों विधायकों ने कहा कि कांग्रेस में उनकी आस्था है और वह इस आस्था कोई यूं ही बनाए रखेंगे। इसके साथ ही दमोह के विधायक राहुल सिंह ने मीडिया(media) से बात करते हुए कहा कि अन्य पार्टियों की तरफ से उनके पास बहुत से ऑफर है किंतु कोई भी उनका सम्मान नहीं कर सकता। विधायक ने कहा कि कांग्रेस पार्टी नहीं है वह विधायक बनाया है और हम उनके साथ हैं। हालांकि कमलनाथ(kamalnath) से हुई चर्चा के जवाब में उन्होंने कहा कि उपचुनाव एवं संगठन को लेकर दोनों विधायकों की पूर्व मुख्यमंत्री नाथ से चर्चा हुई है।

बता दे कि 2 दिन पहले ही अपनी विधायकी और कांग्रेस का दामन छोड़ प्रद्युमन सिंह लोधी(Pradyuman Singh Lodhi) बीजेपी में शामिल हुए थे। कमलनाथ के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफे के समय यही विधायक फूट-फूट कर रोए थे। बता दें कि प्रद्युम्न और राहुल दोनों चचेरे भाई हैं। हालाकि प्रद्युमन सिंह लोधी के बीजेपी में जाने के बाद ये चर्चा तेज हो गई थी कि बुंदेलखंड से 4 और महाकौशल से 1 विधायक के बीजेपी के संपर्क में है। जिसके बाद से ही कांग्रेसी नेता इन नेताओं को साधने की कोशिश में लगी है। हलाकि दोनों नेताओं ने इन अटकलों को सिरे से ख़ारिज किया है। अब आगे का सियासी क्रम क्या नया लेकर आता है ये देखना दिलचस्प होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here