सिंगरौली, राघवेन्द्र सिंह गहरवार। सिंगरौली पुलिस अधीक्षक वीरेन्द्र सिंह के दिशा निर्देशन में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक प्रदीप शेन्डे व एसडीओपी राजीव पाठक के मार्गदर्शन में माड़ा थाना प्रभारी डीएसपी चंद्रशेखर पांडेय को बड़ी सफलता मिली जब हत्या के आरोपी को कड़ी मशक्कत के बाद आखिरकार माड़ा के घनघोर जंगलो के बीच अमरा पहाड़ी की गुफाओं में छिपे बैठे हत्यारे को धरदबोचा।

दिनांक 24/08/20 को सूचना मिली कि ग्राम अमिलवान में रामानुग्रह प्रजापति को शासकीय पूर्व माध्य. विद्यालय अमिलवान के सामने पीसीसी रोड में विजय सिंह खैरवार उर्फ पप्पू खैरवार ने सिर में डण्डा से मारकर हत्या कर दिया है। सूचना मिलते ही मौके पर माड़ा पुलिस पहुंचकर एफएसएल डॉक्टर सिंगरौली को मौके से बुलाया व मृतक की आई चोटों को देखकर शव पंचनामा तैयार करवाया गया वही हत्या का आरोपी मौके से फरार हो गया था। माड़ा पुलिस द्वारा आरोपी को ढूढ़ने का अथक प्रयास किया जा रहा था लेकिन कोई पता नही चल रहा था तब थाना प्रभारी द्वारा 04 टीमों का गठन किया गया पहली टीम में उप निरीक्षक राकेश कुमार राजपूत व दूसरी टीम में परि.उप निरीक्षकअमन वर्मा व तीसरी टीम में उप निरीक्षक बालेन्द्र त्यागी एवं चौथी टीम को खुद माड़ा थाना प्रभारी डीएसपी चंद्रशेखर पांडेय के द्वारा लीड किया गया तब चारों टीम पर्वतवा पहाड़ी,अमरा पहाड़ी व पेडरावल के जंगल में लगातार सर्च अभियान चलाकर रात दिन हत्यारे को ढूढते रहे और आरोपी चकमा देता रहा। तब कुछ पुलिस वालों को वेश बदलकर जंगल तरफ रवाना कर दिया गया तभी मुखविर से सूचना मिली कि आरोपी अमरा के पहाड़ी में गुफा के अंदर छिपा बैठा है। चारो टीमो के द्वारा अमरा के पहाड़ी को चारो तरफ से घेर कर आरोपी विजय सिंह उर्फ पप्पू खैरवार पिता मोतीलाल खैरवार उग्र 22 वर्ष को गिरफ्तार कर अपराध क्रमांक 393/2020 धारा 302, 201 भादवि. पंजीबद्ध कर आरोपी को गिरफ्तार किया गया।

उपरोक्त कार्रवाई में थाना प्रभारी माड़ा डीएसपी चन्द्रशेखर पाण्डेय,उप निरीक्षक राकेश कुमार राजपूत, उप. निरी. बालेन्द्र त्यागी, परि. उप. निरी. अमन वर्मा, सउनि नरेश सिंह बघेल, सउनि राजेश सिंह परिहार, सउनि बी.पी. वर्मा, सउनि आर.के. वर्मा, प्र.आर. भगवानदास प्रजापति, प्र.आर. रमेश प्रसाद, प्र.आर. देवेन्द्र पाण्डेय, आरक्षक राहुल सिंह, अनीष सिंह, आलोक चौबे, योगेन्द्र पाण्डेय, अशोक यादव, कौशलेन्द्र रावत, अजय यादव, विनय दोहरे, राकेश यादव, महिला आरक्षक मांगी सोलंकी, आरक्षक चालक राकेश कुमार, एफ.आर.व्ही चालक जगत सिंह, रामचरण पनिका की सराहनीय भूमिका रही।