जयारोग्य अस्पताल के अधीक्षक ने दिया पद से इस्तीफा, ये बताई वजह

185

ग्वालियर।अतुल सक्सेना

अंचल के सबसे बड़े अस्पताल समूह जयारोग्य अस्पताल के अधीक्षक एवं संयुक्त संचालक डॉ अशोक मिश्रा ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है। उन्होंने अपना इस्तीफा संभाग आयुक्त को भेज दिया है। डॉ मिश्रा ने इस्तीफा देने की वजह पत्नी की बीमारी और व्यक्तिगत कारण बताई है।

डॉ अशोक मिश्रा ने हस्तलिखित इस्तीफा सोमवार को संभाग आयुक्त एमबी ओझा को भेजा। देर शाम ये इस्तीफा सोशल मीडिया के पास पहुँच गया और शहर में चर्चाएं तेज हो गई। लेकिन जब लोगों ने इस्तीफे की भाषा पढ़ी तो स्थिति स्पष्ट हो गई। डॉ अशोक मिश्रा ने संभाग आयुक्त को संबोधित अपने इस्तीफे में लिखा कि मैं व्यक्तिगत कारणों और मेरी पत्नी के हार्ट की बाईपास सर्जरी के बाद उनका स्वास्थ्य ठीक नहीं होने के कारण संयुक्त संचालक और अधीक्षक के पद पर कार्य करने में असमर्थ हूँ अतः मुझे इस पद के अतिरिक्त प्रभार से कार्यमुक्त करने का कष्ट करें। इस्तीफे के अंत में डॉ मिश्रा ने लिखा कि मैं कोरोना महामारी के विरुद्ध संघर्ष में अपना योगदान प्राध्यापक एवं विभागाध्यक्ष कम्युनिटी मेडिसिन। गजरा राजा मेडिकल कॉलेज के रूप में पूर्ण निष्ठा और क्षमता के साथ देता रहूँगा। जानकारी के अनुसार डॉ मिश्रा का इस्तीफा अभी संभाग आयुक्त ने स्वीकार नहीं किया है। इस पर आज मंगलवार को फैसला संभव है क्योंकि बुधवार को कॉलेज की कार्यकारिणी की बैठक प्रस्तावित है।

डॉ अशोक मिश्रा को दिसंबर 2018 में चिकित्सा शिक्षा विभाग ने अधीक्षक एवं संयुक्त संचालक बनाया था इसे बाद सितंबर 2019 में उन्हें पद से हटा दिया था। हालांकि इससे पहले ही डॉ मिश्रा इस्तीफा भेज चुके थे। लेकिन सरकार ने अगले आदेश तक उन्हें इसी बाद पर अतिरिक्त प्रभार के रूप में जिम्मेदारी सौंपी थी तभी से डॉ मिश्रा इस जिम्मेदारी को बखूबी निभा रहे थे। कोरोना जैसी महामारी में भी डॉ मिश्रा ने अंचल के सबसे बड़े अस्पताल की व्यवस्थाओं को बिगड़ने नहीं दिया। वहीं जयारोग्य अस्पताल परिसर में स्थित सुपर स्पेशलिटी अस्पताल से सामंजस्य बैठाकर यहाँ भर्ती कोरोना पॉजिटिव मरीजों तक मदद पहुंचाई।

नये अधीक्षक के लिए राजनेताओं से जुगाड़ शुरू

डॉ मिश्रा के इस्तीफे के बाद नये अधीक्षक की सुगबुगाहट शुरू हो गई है। हालांकि संभाग आयुक्त एमबी ओझा ने इस्तीफा स्वीकार नहीं किया है वे आज इस पर फैसला ले सकते हैं क्योंकि का बुधवार को कॉलेज की कार्यकारिणी की बैठक होना है। जिसमें इस विषय पर चर्चा होनी है। डॉ मिश्रा के इस्तीफे के बाद चार डॉक्टर इस पद की दौड़ में हैं। इनमें पूर्व अधीक्षक डॉ जे एस सिकरवार, अंकोलोजी के डॉ अक्षय निगम, आर्थोपैडिक के डॉ आरइस धाकड़ और सर्जरी के डॉ सुनील अग्रवाल के नाम चर्चा में हैं। इन सभी ने अपने अपने राजनैतिक संपर्कों से संपर्क स्थापित करना शुरू कर दिया है। जानकारी के अनुसार अब स्थाई अधीक्षक की प्रक्रिया पर भी विचार किया जा रहा है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here