Gwalior-सफाईकर्मी रघुवीर को लगा पहला मंगल टीका, ढोल नगाड़ों पर नाचे सभी

रघुवीर की बाँह पर कोरोना टीका लगाया, वैसे ही सम्पूर्ण जेएएच परिसर हर्षमय सुखद अहसास से सराबोर हो गया। स्वास्थ्यकर्मी और डॉक्टर ढोल नगाड़ों पर नाचते हुए जश्न मनाने लगे।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। पूरे देश में आज से शुरू हुए कोरोना वैक्सिनेशन (Corona vaccination) महा टीकाकरण अभियान के साथ ही ग्वालियर में भी इसकी शुरुआत हो गई। जयारोग्य अस्पताल समूह (JAH) के सफाईकर्मी (Sweeper)एवं असल कोरोना वॉरियर्स Corona warriors) रघुवीर बाल्मीकि को जिले का पहला मंगल टीका लगाकर टीकाकरण का शुभारंभ हुआ। शनिवार की मंगल वेला में एएनएम श्रीमती गीता कबीर ने जेएएच परिसर में बने कोविड-19 टीकाकरण केन्द्र (Vaccination center) में जैसे ही रघुवीर की बाँह पर कोरोना टीका लगाया, वैसे ही सम्पूर्ण जेएएच परिसर हर्षमय सुखद अहसास से सराबोर हो गया। स्वास्थ्यकर्मी और डॉक्टर (Health Workers And Doctors) ढोल नगाड़ों पर नाचते हुए जश्न मनाने लगे। रघुवीर द्वारा टीके के रूप में कोविड-19 रक्षा कवच पहनते ही ग्वालियर (Gwalior) जिले में भी कोरोना (Corona)के खिलाफ दुनिया के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान (Vaccination Campaign) की विधिवत शुरूआत हो गई। टीका लगने से पहले रघुवीर के पहचान दस्तावेजों की जाँच कर ऑन लाइन जरूरी जानकारी फीड की गई। इसी तरह टीका लगने के बाद आधा घण्टे तक विशेष कमरे में डॉक्टर्स की निगरानी में बिठाकर रखा गया। जहां रघुवीर पूरे समय प्रसन्नचित रहे।

कोरोना वेक्सीनेशन की शुरुआत से पहले कलेक्टर कौशलेन्द्र विक्रम सिंह (Collector Kaushalendra Vikram Singh)एवं जेएएच (JAH)के अधीक्षक डॉ आर के एस धाकड़ (Dr RKS Dhakad) ने ढोल-धमाकों और मंगल धुन के बीच कन्या पूजन किया। रघुवीर बाल्मीक की बिटिया कु. विशाखा का रोली-चंदन की टीका व अक्षत-पुष्प के साथ कन्यापूजन किया गया।

डीन, अधीक्षक व मेडीकल कॉलेज के अन्य चिकित्सकों को भी लगे टीके

जेएएच (JAH) के कोरोना टीकाकरण केन्द्र में सबसे पहले रघुवीर बाल्मीक को टीका लगा। इसके बाद जीआर मेडिकल कॉलेज के डीन डॉ एस एन अयंगर, जेएएच के अधीक्षक डॉ आर के एस धाकड़, डॉ देवेन्द्र कुशवाह, डॉ प्रवेश मंगल व डॉ प्रवेश भदौरिया ने टीके लगवाए।

यहाँ भी लगे शनिवार को मंगल टीके

दुनिया के सबसे बड़े कोरोना टीकाकरण अभियान के तहत ग्वालियर (Gwalior) में जेएएच (JAH) के अलावा जिला चिकित्सालय मुरार, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र डबरा व भितरवार , थल सेना अस्पताल और वायुसेना के अस्पताल में बनाये गए कोरोना टीकाकरण केन्द्र में भी शनिवार को मंगल टीके लगाकर लोगों को कोविड से बचाव के लिए सुरक्षा कवच पहनाया गया।

रघुवीर बोले टीका जरूर लगवाएँ जिससे अब किसी और अपने को न खोना पड़े

ग्वालियर(Gwalior) जिले में पहला कोरोना टीका लगवाने के बाद रघुवीर बाल्मीकि के चेहरे पर आत्मविश्वास और खुशी देखते ही बन रही थी। जेएएच (JAH) के सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल (Super Specialty Hospital) में बने कोविड सेंटर में सफाईकर्मी (Sweeper)के रूप में साहस पूर्वक कोरोना वारियर्स की भूमिका निभाते आ रहे रघुवीर का कहना था देशवासी जागरूक नागरिक का परिचय देकर कोरोना का टीका जरूर लगवाएँ। अपने मन से सभी तरह के भ्रम निकाल दें और भारतीय वैज्ञानिकों पर भरोसा रखें यह टीका पूरी तरह सुरक्षित है। वे भावुक होकर बोले कोरोना से देश ने कई अपनों को खोया है। इसलिए हम सब खुशी-खुशी टीका लगवाएँ, जिससे किसी और अपने को न खोना पड़े। कोरोना टीका लगवाने के लिए रघुवीर अपनी भाभी जी श्रीमती आशा बाई एवं बिटिया विशाखा के साथ आए थे। उनकी भाभी भी जेएएच की सफाई कर्मी हैं और वैश्विक महामारी कोरोना के खिलाफ जंग में सहभागी हैं।