गोडसे ज्ञानशाला पर प्रशासन ने जड़ा ताला, हिमस बोली- हमारा उद्देश्य तो पूरा हुआ

आपात बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि गोडसे ज्ञानशाला को बंद किया जायेगा लेकिन हिन्दू महासभा भवन दौलतगंज ग्वालियर में राष्ट्रभक्तों से जुड़े आयोजन जारी रहेंगे।

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। रविवार को हिंदू महासभा (Hindu Masabha द्वारा राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के हत्यारे नाम पर ग्वालियर स्थित कार्यालय में शुरू की गई गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala)को जिला प्रशासन ने बंद करा दिया है। प्रशासन ने धारा 144 लगाकर इस तरह के आयोजन को नहीं करने के निर्देश दिये हैं। उधर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष का कहना था कि हमारा उद्देश्य पूरा हो गया है। हम लोग राष्ट्र भक्त हैं शहर में सौहार्दपूर्ण माहौल बना रहे इसलिए गोडसे ज्ञानशाला को बंद कर रहे हैं लेकिन राष्ट्रहित से जुड़े कार्यक्रम होते रहेंगे।

गोडसे की पूजा कर शुरू की थी गोडसे ज्ञानशाला

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse)को आदर्श मानने वाली हिंदू महासभा ने रविवार को हिंदी दिवस के मौके पर ग्वालियर स्थित पार्टी कार्यालय दौलतगंज पर गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala) का शुभारंभ किया। पार्टी ने गोडसे (Godse)के चित्र पर तिलक किया और आरती उतारी। पार्टी ने कहा कि गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala) के माध्यम से पार्टी युवाओं को बलिदानियों और क्रांतिकारियों की गाथा बताएगी और गोडसे के राष्ट्र भक्त चेहरे को दिखाएगी। पार्टी ने कहा कि कांग्रेस (Congress) ने देश का विभाजन कराया जिसके कारण लाखों हिंदुओं का कत्लेआम हुआ जिसके प्रतिकार स्वरूप नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) ने महात्मा गांधी (Mahatma Gandhi) को गोली मारी जबकि वो तो मोहम्मद अली जिन्ना का प्रतिकार करना चाहते थे। पार्टी ने गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala)के शुभारंभ के दूसरे दिन सोमवार को कार्यालय पर सुंदर कांड का पाठ किया और गोडसे का महिमा मंडन करते हुए गोडसे (Godse)के चित्र को भगवान के फोटो के साथ रखा और उसकी पूजा अर्चना की।

मीडिया से बाहर आया मामला, गृह मंत्री ने भी की थी कार्रवाई की बात

मामला मीडिया में आने के बाद जिला प्रशासन की नींद खुली और रविवार देर शाम गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala) बंद करने का नोटिस जारी किया गया और कार्यालय के बाहर धारा 144 लगा दी । प्रशासन ने पार्टी पदाधिकारियों को बुलाकर मीटिंग की और गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala) को बंद करने के सख्त निर्देश दिये। प्रशासन के निर्देश के बाद हिंदू महासभा ने गोडसे ज्ञान शाला (Godse Gyanshala) को बंद कर दिया। गौरतलब है कि राष्ट्रपिता के हत्यारे नाथूराम गोडसे (Nathuram Godse) के महिमा मंडन और उसके नाम पर गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala)खोले जाने के बाद गृह मंत्री डॉ नरोत्तम मिश्रा ने भी कहा था कि जो कोई भी समाज विरोधी या राष्ट्रविरोधी काम करेगा उसपर कार्रवाई की जायेगी। वहीं कांग्रेस (Congress) ने भी इस मामले में ग्वालियर जिला प्रशासन को आपत्ति दर्ज कराई थी। मामला बढ़ता देख प्रशासन हरकत में आया और गोडसे ज्ञान शाला पर ताला जड़ दिया।

राष्ट्रीय उपाध्यक्ष ने कहा – हमारा उद्देश्य पूरा हुआ

गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala) बंद करने के फैसले पर पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ जयवीर भारद्वाज Dr jaiveer Bharadwaj)ने कहा कि जिला प्रशासन, पुलिस प्रशासन एवं हिन्दू महासभा पदाधिकारियों के बीच हुई बैठक में निर्णय लिया गया कि ग्वालियर में शान्ति, सौहार्द के लिए राष्ट्रहित में गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala)को बंद कर दिया जाए । जिसके बाद हिन्दू महासभा के पदाधिकारियों की आपात बैठक में सर्वसम्मति से निर्णय लिया कि गोडसे ज्ञानशाला को बंद किया जायेगा लेकिन हिन्दू महासभा भवन दौलतगंज ग्वालियर में राष्ट्रभक्तों से जुड़े आयोजन जारी रहेंगे। गोडसे ज्ञानशाला (Godse Gyanshala)को संचालित नहीं किया जायेगा। डॉ भारद्वाज ने एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से कहा कि हमारा जो उद्देश्य था वो पूरा हुआ। हम ज्ञानशाला के माध्यम से गोडसे की बात को कुछ हजार लोगों तक पहुंचा पाते लेकिन मीडिया ने इसे लाखों करोड़ों लोगों तक पहुंचा दिया।