जिस परिवार ने दी शरण, उसकी ही खुशियां छीनकर मालिक को ले उड़ी महिला!

रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते अपना घर और देश छोड़ने को मजबूर हुई सोफिया को ब्रिटेन के ब्रैडफोर्ड शहर में टोनी गार्नेट और उनके परिवार ने शरण दी। टोनी अपनी बीवी और दो बच्चों के साथ रहते है। लेकिन मात्र 10 दिनों में ही सोफिया और टोनी इतने करीब आ गए कि टोनी ने अपने परिवार को छोड़कर सोफिया के साथ अपने माता-पिता के साथ रहना शुरू कर दिया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। ‘प्यार अंधा होता है’, ये मुहावरा शायद हमने ना बचपन से कितनी ही बार सुना होगा, लेकिन कभी-कभी सही और गलत के बीच प्यार को चुनना भी बहुत सी खुशियों का गला घोट देता है। ऐसा की कुछ ब्रिटेन के परिवार के साथ हुआ, जहां एक परिवार ने अच्छाई की मिसाल बनते हुए एक महिला को शरण दी और उस महिला ने परिवार से सुख-चैन छीन लिया।

रूस-यूक्रेन युद्ध के चलते अपना घर और देश छोड़ने को मजबूर हुई सोफिया को ब्रिटेन के ब्रैडफोर्ड शहर में टोनी गार्नेट और उनके परिवार ने शरण दी। टोनी अपनी बीवी और दो बच्चों के साथ रहते है। लेकिन मात्र 10 दिनों में ही सोफिया और टोनी इतने करीब आ गए कि टोनी ने अपने परिवार को छोड़कर सोफिया के साथ अपने माता-पिता के साथ रहना शुरू कर दिया है।

ये भी पढ़े … MP में पेट्रोल-डीजल के दाम रहे स्थिर, जाने अन्य शहरों का क्या है हाल

टोनी की पत्नी लोर्ना को इस बात से बहुत बड़ा सदमा लगा है और करीबी दोस्तों की माने तो वह अंदर से बिल्कुल टूट चुकी है क्योंकि टोनी और लोर्ना का रिश्ता 10 साल पुराना है।

सोफिया ने द सन से बातचीत में कहा, ” मैं टोनी के साथ ब्रिटेन में सुरक्षित महसूस करती हूं। सबकुछ बहुत जल्दबाजी में हो गया लेकिन यह हमारी लव स्टोरी है। मैं जानती हूं कि लोग मेरे बारे में बुरा-भला कहेंगे लेकिन ऐसा बस हो गया।”

उसने आगे कहा, “मैं देख सकती थी कि टोनी पहले कितना नाखुश था।”

वहीं इस पर टोनी ने कहा, “अब हमारी जोड़ी फ्यूचर के बारे में सोच रही है। मैं जानता हूं कि लोग यही सोचेंगे कि सबकुछ बहुत जल्दी में हो गया, लेकिन सोफिया और मैं जानता हूं कि सबकुछ सही है।”

ये भी पढ़े … MP के CM की कुर्सी पर इस BJP नेता को देखना चाहते है कांग्रेस विधायक

आपको बता दे, टोनी ने गवर्नमेंट रिफ्यूजी होमिंग स्कीम साइन किया था और वह रिफ्यूजी को घर में रखना चाहता था। लेकिन यह प्रक्रिया धीमी होने के कारण ,उसने सोशल मीडिया के जरिए लोगों की मदद करने की ठानी और इस बीच एनएचएस ड्राप-इन सेंटर में काम करने वाले टोनी की दोस्ती फेसबुक के जरिए सोफिया से हुई, जिसके बाद उसने सोफिया को अपने घर में रहने का ऑफर दिया।

सोफिया 4 मई को मैनचेस्टर पहुंचीं और फिर टोनी और लोर्ना के साथ वेस्ट योर्कस में रहने लगीं।