ऊर्जा मंत्री

ग्वालियर, अतुल सक्सेना। ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) समर्थक और शिवराज सरकार में ऊर्जा मंत्री प्रद्युम्न सिंह तोमर द्वारा खटिया डालकर उनके क्षेत्र में फुंकी बिजली की केबल ठीक कराने पर कांग्रेस ने तंज कसा है। पूर्व मंत्री एवं वरिष्ठ विधायक डॉ गोविंद सिंह (Congress MLA Dr Govind Singh) ने ऊर्जा मंत्री से सवाल किया है कि क्या वे बिजली की दरें (Electricity Bill) बढ़ने से रोकने के लिए मुख्यमंत्री के दरवाजे के बाहर खटिया डालकर बैठेंगे?

यह भी पढ़े.. MP Weather Alert: मप्र के इन जिलों में अति भारी बारिश का अलर्ट, बिजली गिरने के भी आसार

मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के ऊर्जा मंत्री एवं ग्वालियर के विधायक प्रद्युम्न सिंह तोमर  (Energy Minister Pradyuman Singh Tomar)  ने गुरुवार को सागर ताल क्षेत्र की हरिहर कॉलोनी में फुंकी बिजली की केबल को वहीं खटिया डालकर ठीक कराये जाने पर कांग्रेस ने तंज कसा है। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता लहार विधायक एवं पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने ऊर्जा मंत्री तोमर पर निशाना साधते हुए कहा कि वे कभी नाला साफ करते हैं कभी खटिया डाल कर बैठते हैं क्या यही दुर्दशा कराने भाजपा में गए हैं?

पूर्व मंत्री डॉ गोविंद सिंह ने कहा कि मंत्री बनने के चक्कर में उन्होंने अपना धर्म बदला, सिद्धांत बदला उसके बाद भी जो हालत उनके नेता सिंधिया की हो रही है वो ही तोमर की हो रही है। उन्हें केवल कुर्सी के लिए खटिया डालकर नहीं बैठना चाहिए । मैं उनसे अनुरोध करता हूँ कि जिस प्रकार वे कांग्रेस की सरकार (Congress Government) में किसानों की हित की बात करते थे, बिजली की दरें बढ़ने का विरोध करते थे, ऐसे ही अब जब बिजली की दरें बढ़ाने की बात चल रही है तो वे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chouhan) के दरवाजे पर खटिया डालकर बैठे और विरोध करें।

New Transfer Policy : इन अधिकारी-कर्मचारियों के नहीं होंगे तबादलें, ये है बड़ा कारण

उधर डॉ गोविंद सिंह के बयान पर ऊर्जा मंत्री तोमर ने पलटवार किया है। मंत्री ने कहा कि डॉ गोविंद सिंह की ये पीड़ा है जो बाहर निकलती रहती है। वो वरिष्ठ विधायक हैं उन्हें नेता प्रतिपक्ष होना चाहिए था लेकिन कांग्रेस ने उन्हें नहीं बनाया। ऊर्जा मंत्री ने कहा कि मैंने किसी लालच में कांग्रेस नहीं छोड़ी, ग्वालियर (Gwalior) की जनता का अपमान हो रहा था, यहाँ विकास कार्य नहीं हो रहे थे, मुझे जिस जनता ने चुन कर भेजा था उसके लिए मैंने कई बार कैबिनेट में मुख्यमंत्री के सामने अपनी बात रखी, फिर मैं जनता के सम्मान के लिए। मैदान में आ गया।