बेटे को भेजा होता मदरसे, तो आज यह दिन न देखना पड़ता, देखिए किसने दी किंग खान को नसीहत

बरेली, डेस्क रिपोर्ट। किंग खान ने अगर बेटे को मदरसे में भेजा होता तो आज शायद यह दिन न देखना पड़ता। यह कहना है, तंजीम उलेमा-ए-इस्लाम के राष्ट्रीय महासचिव मौलाना शहाबुद्दीन रजवी का, उन्होंने कहा कि कि अभिनेता खुद भी यदि मदरसे में पढ़े होते तो यह दिन नहीं देखना पड़ता।

सागर में ऑनलाइन गेम ने बच्चे को पहुंचाया हॉस्पिटल, Free Fire खेलने से बिगड़ा मानसिक संतुलन

मौलाना रजवी ने यह भी कहा कि शाहरुख खान ने यदि बेटे को कुछ दिन मदरसे में शिक्षा दिलाई होती तो उसे इस्लाम के नियमों के बारे में पता होता और यह दिन नहीं देखना पड़ता। और मुस्लिम धर्म में किसी भी तरह का नशा करना प्रतिबंधित है। उन्होंने कहा, फिल्म जगत के लोग इस्लाम के आदेशों से वाकिफ नहीं हैं। इस्लाम में नशा करना हराम है और यह बात मदरसे में पढ़ाई और समझाई भी जाती है।

सरकार का फैसला, नए साल में कर्मचारियों को मिलेगी सौगात, बढ़ेगा 1,620 करोड़ रुपये का अतिरिक्त खर्च

मौलाना ने यह भी कहा की धर्म में यह भी कहा गया है कि अगर बच्चा गलत हरकतों में पड़ जाए तो मां-बाप उसे प्यार से समझाकर सही रास्ते पर लाने का प्रयास करें। शाहरुख खान यदि मदरसे में कुछ पढ़े होते तो उन्हें इसका अहसास होता। उन्होंने ज़ोर दिया, भले ही कुछ दिन, मगर, धार्मिक शिक्षा भी ग्रहण करनी चाहिए।शाहरुख खान को मदरसा नहीं मिला तो घर के पास किसी मस्जिद के इमाम से धार्मिक शिक्षा ले लेते। उन्हें अपने बेटे को भी इस्लाम के नियमों से रूबरू कराना चाहिए था।