MP: इस वक्त हो सकता है विधानसभा का शीतकालीन सत्र, सीएम कार्यालय भेजा गया प्रस्ताव

इससे पहले 21 सितंबर को 1 दिन का विधानसभा सत्र आयोजित किया गया था। जिसमें सरकार ने अनुसूचित जनजाति ऋण मुक्ति विधेयक, मध्यप्रदेश विनियोग विधेयक सहित, मध्य प्रदेश साहूकार संशोधन विधेयक पारित कराया था

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट। मध्यप्रदेश (madhya pradesh) में विधानसभा के शीतकालीन सत्र की चर्चा शुरू हो चुकी है। माना जा रहा है कि दिसंबर के अंतिम सप्ताह में विधानसभा का शीतकालीन सत्र आयोजित किया जा सकता है। इसके लिए प्रस्ताव मुख्यमंत्री कार्यालय भेज दिए गए हैं। जिस पर मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान (Chief Minister Shivraj Singh Chauhan) जल्द निर्णय लेंगे।

सूत्रों के अनुसार 24 नवंबर को होने वाली कैबिनेट बैठक (cabinet meeting) में संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा (narottam mishra) शीतकालीन सत्र की चर्चा मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान से कर सकते हैं। माना जा रहा है कि शीतकालीन सत्र में कई अन्य संशोधन विधेयक पेश किए जाएंगे। इसके साथ ही विधानसभा में लंबित विधेयक भी प्रस्तावित किए जाएंगे।

Read More: कांग्रेस विधायक की बयान – कंप्यूटर बाबा और इन जैसे लोग पहुंचा रहे पार्टी को नुकसान

इतना ही नहीं विधानसभा के शीतकालीन सत्र में ही उपचुनाव (by-election) में जीते 28 विधायकों (MLAs) के शपथ ग्रहण आयोजित होंगे। इसके साथ ही साथ वित्त विभाग बजट का अनुमान सदन में पेश किया जा सकता है। इस मामले में विधानसभा के प्रमुख सचिव एपी सिंह (AP Singh) ने बताया कि सत्र को लेकर निर्णय सरकार को लेना है। जिस पर मुख्यमंत्री जल्द ही निर्णय लेंगे। वही विधानसभा के शीतकालीन सत्र में कई विधि और विधाई संबंधित कार्य संपादित किए जाएंगे।

बता दें कि इससे पहले 21 सितंबर को 1 दिन का विधानसभा सत्र आयोजित किया गया था। जिसमें सरकार ने अनुसूचित जनजाति ऋण मुक्ति विधेयक, मध्यप्रदेश विनियोग विधेयक सहित, मध्य प्रदेश साहूकार संशोधन विधेयक पारित कराया था।