क्या परिवहन विभाग के इस अधिकारी के खिलाफ शिव ‘राज’ में होगी कार्रवाई ?

लोकायुक्त को लिखे पत्र में कहा है संभागीय उप परिवहन आयुक्त भ्रष्ट अधिकारी से सम्बद्ध हैं इसलिए उनकी जाँच निष्पक्ष नहीं होगी। इसलिए परिवहन विभाग से सम्बद्ध अधिकारियों  के अलावा लोकायुक्त इसकी प्राथमिक जांच करे।

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।  मध्यप्रदेश की सेंधवा (Sendhwa) सहित अन्य परिवहन चैक पोस्ट (Transport check post) पर पदस्थ अधिकारियों द्वारा की जा रही अवैध वसूली (Illegel Recovery) का खुलासा कर लगातार इनके खिलाफ कार्रवाई की मांग कर रहे इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन (Indore Truck Operators And Transport Association) के पदाधिकारियों को अभी तक निराशा ही हाथ लगी है। पिछले दिनों साक्ष्य के साथ उपस्थित होने के बुलावे के बाद ग्वालियर में अपने कार्यालय से खुद गायब हुए संभागीय उप परिवहन आयुक्त (Divisional Deputy Transport Commissioner) के व्यवहार से नाराज एसोसिएशन के पदाधिकारी एक बार फिर लोकायुक्त की शरण में गए हैं।  उन्होंने लोकायुक्त को लिखे पत्र में कहा है संभागीय उप परिवहन आयुक्त भ्रष्ट अधिकारी से सम्बद्ध हैं इसलिए उनकी जाँच निष्पक्ष नहीं होगी। इसलिए परिवहन विभाग से सम्बद्ध अधिकारियों  के अलावा लोकायुक्त (Lokayukt) इसकी प्राथमिक जांच करे।

मध्यप्रदेश की सेंधवा (बालसमंद) परिवहन चौकी पर पदस्थ परिवहन निरीक्षक दशरथ पटेल और उनके सहयोगी राहुल कुशवाह द्वारा की जा रही अवैध वसूली से परेशान इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स  एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन के पदाधिकारियों का संघर्ष जारी है। पिछले दिनों वे साक्ष्यों के साथ उपस्थित होने का बुलावा आने पर ग्वालियर स्थित संभागीय उप परिवहन आयुक्त (Divisional Deputy Transport Commissioner) से मिलने भी गए थे लेकिन वे ही अपने कार्यालय से गायब मिले।  अब इसे दुर्भाग्य ही कहा जायेगा कि जिस प्रदेश के मुख्यमंत्री भ्रष्टाचार के खिलाफ सख्त कार्रवाई के निर्देश दे चुके हैं उसी प्रदेश के आला अधिकारी भ्रष्टाचार पर कार्रवाई को लेकर गंभीर नहीं है। दरअसल  सेंधवा परिवहन चौकी प्रभारी दशरथ पटेल और वहां पदस्थ राहुल कुशवाह की अवैध वसूली की शिकायत  इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स  एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन के पदाधिकारी विभाग सहित लोकायुक्त (Lokayukt) में कर चुके हैं।

शिकायत आने के बाद  संभागीय उप परिवहन आयुक्त (Divisional Deputy Transport Commissioner) ग्वालियर एवं चम्बल संभाग एवं प्रभारी इंदौर संभाग अरुण कुमार सिंह (Arun Kumar Singh ) ने इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स  एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन  के अध्यक्ष सीएल मुकाती (CL Mukati)को पत्र भेजकर उनके द्वारा  सेंधवा और अन्य परिवहन पोस्टों पर अवैध वसूली की लोकायुक्त (Lokayukt)में की गई शिकायत के सम्बन्ध में दिनांक 6 जनवरी को 12 :30  बजे ग्वालियर स्थित कार्यालय में साक्ष्य के साथ उपस्थित होने के निर्देश दिए थे।  पत्र में इस बात का भी उल्लेख था कि यदि आप उपस्थित नहीं होते हैं तो एकतरफा कार्रवाई की जाएगी। पत्र मिलने के बाद श्री मुकाती अपनी एसोसिएशन के 56 सदस्यों के साथ ग्वालियर पहुंचे  लेकिन  संभागीय उप आयुक्त खुद ऑफिस में नहीं मिले।  जिससे नाराज श्री मुकाती ने मांग की कि उन्होंने हमें उपस्थित नहीं होने पर जिस एकतरफा कार्रवाई की चेतावनी दी थी अब परिवहन विभाग के आयुक्त महोदय संभागीय उपायुक्त पर ये कार्रवाई करें।

परिवहन मुख्यालय ग्वालियर (Transport Headquarters Gwalior) में पदस्थ संभागीय उप परिवहन आयुक्त (Divisional Deputy Transport Commissioner) ग्वालियर एवं चम्बल संभाग एवं प्रभारी इंदौर संभाग अरुण कुमार सिंह के कार्यालय से निराशा हाथ लगने के बाद इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन के अध्यक्ष सीएल मुकाती ने एक बार फिर लोकायुक्त (Lokayukt)का दरवाजा खटखटाया है। श्री मुकाती ने लोकायुक्त नरेश कुमार गुप्ता को पत्र लिखकर शिकायत सम्बन्धी पिछले पत्र, अवैध वसूली के साक्ष्य, रिकॉर्डिंग, ऑडियो आदि पुनः सौंपते हुए कहा  कि पिछली शिकायतों की अभी तक जाँच नहीं हुई है।  सेंधवा में पदस्थ परिवहन निरीक्षक दशरथ पटेल और राहुल कुशवाह वाहनों से प्रतिदिन 70 – 80  लाख रुपये की अवैध वसूली कर रहे हैं लेकिन विभाग ने अब तक शिकायतों पर कोई एक्शन नहीं लिया। मुकाती ने लिखा कि संभागीय उप आयुक्त दशरथ पटेल और राहुल कुशवाह से सम्बद्ध है इसलिए उनसे निष्पक्ष जाँच की उम्मीद नहीं है , यदि वे जाँच करते है तो सिर्फ खानापूर्ति होगी इसलिए आपसे निवेदन है कि परिवहन विभाग की जाँच के अलावा आपके विभाग द्वारा यानि लोकायुक्त (Lokayukt)पुलिस द्वारा इसकी जाँच की जाये।

बहरहाल अब देखना ये है कि भ्रष्टाचार पर अंकुश लगाने के लिए एक्शन मोड में चल रहे मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की निगाहें परिवहन विभाग में फैले भ्रष्टाचार पर पड़ती हैं कि नहीं या सेंधवा सहित अन्य परिवहन चौकियों पर चल रही अवैध वसूली को रोकने के लिए संघर्ष कर रहे इंदौर ट्रक ऑपरेटर्स एंड ट्रांसपोर्ट एसोसियेशन को अभी और संघर्ष करना होगा।