BJP MLA को कैबिनेट में शामिल नहीं किए जाने पर कार्यकर्ता नाराज, आत्मदाह का किया प्रयास

भोपाल। मध्यप्रदेश में गुरुवार को शिवराज सरकार ने मंत्रिमंडल का विस्तार किया गया। इस मंत्रिमंडल में कुल 27 विधायकों को मंत्री पद की शपथ दिलाई गई। हालांकि बहुप्रतीक्षित मंत्रिमंडल विस्तार से ज्यादा चर्चा रही शपथ दिलाए गई सिंधिया समर्थक मंत्रियों को लेकर।  मंत्रिमंडल विस्तार के बाद सिंधिया को बीजेपी में एक पावरफुल चेहरे की इस रूप में देखा जा रहा है। वहीं बीजेपी के पूर्व मंत्रियों को मंत्रिमंडल में जगह ना मिलने से पार्टी कार्यकर्ताओं में नाराजगी है।

दरअसल शिवराज मंत्रिमंडल में जहां एक तरफ सिंधिया समर्थक नेताओं का बोलबाला है। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी मैं पार्टी के कई वरिष्ठ एवं विदेश नेताओं के मंत्रिमंडल में शामिल न किए जाने पर कार्यकर्ताओं में आक्रोश का माहौल बन गया है। इंदौर में बीजेपी विधायक रमेश मेंदोला को मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किए जाने पर भी कार्यकर्ताओं में नाराजगी है। चर्चा थी कि रमेश मेंदोला को शिवराज मंत्रिमंडल में शामिल किया जाएगा पर अंतिम क्षणों तक उनके नाम पर मुहर नहीं लग पाने की वजह से यह मामला अटका रह गया। अब इसे लेकर कार्यकर्ताओं में रोष व्याप्त है। मेंदोला को मंत्री न बनाए जाने से नाराज एक कार्यकर्ता ने बीजेपी कार्यालय के सामने खुद को आग लगाकर आत्मदाह करने की कोशिश की। कार्यकर्ता सुमित हार्डिया ने अपने ऊपर केरोसिन छिड़कने के बाद खुद को आग लगाने की कोशिश की। घटनास्थल पर मौजूद बड़ी संख्या में बीजेपी कार्यकर्ताओं ने उससे बोतल छीनी। वहीं दूसरी तरफ बीजेपी कार्यकर्ता ने शिवराज सरकार पर तंज कसते हुए कहा है कि हर बार विधायक रमेश मेंदोला को उपेक्षा झेलनी पड़ती है। जबकि पार्टी के लिए हमेशा विपरीत परिस्थितियों में भी कार्य करने को तैयार रहते हैं। दूसरी तरफ इंदौर के अलावा रीवा, सतना जैसे जिलों में भी कार्यकर्ताओं ने आगजनी की एवं पार्टी के खिलाफ नारेबाजी की है।

इधर सिंधिया के कांग्रेस से इस्तीफा देने के बाद कांग्रेस छोड़ बीजेपी में आए विधायक रणवीर जाटव ने बड़ा बयान देते हुए कहा है कि मंत्रिमंडल में जिन चेहरों को शामिल किया गया है उन्हें बीजेपी आलाकमान ने सोच समझकर ही किया होगा। मंत्री ना बनने के सवाल पर उन्होंने कहा कि इसमें दुखी होने वाली कोई बात नहीं है। मंत्री बनकर जो लोग शिवराज कैबिनेट में शामिल हुए हैं वह अच्छा काम करेंगे। इस तरह काफी दिनों से टल रहे रहे शिवराज कैबिनेट का विस्तार तो हो गया है किंतु जिन नेताओं को शिवराज मंत्रिमंडल में शामिल नहीं किया गया है वो मीडिया के सामने आने से एवं कुछ भी बोलने से हिचक रहे हैं।