उज्जैन दौरे पर सिंधिया, राजमाता के मूर्ति पर किया माल्यार्पण, इन मुद्दों पर हुई विस्तृत चर्चा

इंदौर, आकाश धोलपुरे 

सांवेर विधानसभा को लक्षित कर 17 अगस्त को इंदौर उज्जैन दौरे पर पहुंचे सिंधिया ने जहां दिन में कांग्रेस और पूर्व कमलनाथ सरकार पर जमकर निशाना साधा वही शाम होते होते बीजेपी नेताओं व कार्यकर्ताओं द्वारा किये गए स्वागत से वो अभिभूत हो गए।  ज्योतिरादित्य सिंधिया सिंधिया राज्यसभा सांसद बनने के बाद पहली बार इंदौर पहुंचे थे और डेर रात तक वो बीजेपी कार्यकर्ताओं और बड़े नेताओं से मिले। उज्जैन के कार्यक्रम के बाद देर शाम इंदौर पहुंचे ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी कार्यालय पहुंचे। यहां उन्होंने सबसे पहले अपनी दादी राजमाता विजयाराजे सिंधिया की प्रतिमा पर माल्यापर्ण किया उन्हें नमन किया। सिंधिया जैसे ही प्रतिमा से नीचे उतरे तो दो बच्चे उनके साथ सेल्फी लेने की गुहार लगाने लगे इसके बाद उन्होंने मास्क पहनने की हिदायत देकर सेल्फी भी खिंचवाई।

इसके बाद वो बीजेपी नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे से मिले और फिर उन्हें बधाई देते हुए बीजेपी कार्यालय में आयोजित साँवेर विधानसभा की बैठक में शामिल हुए। बैठक कब पहले उन्होंने भारत माता, पं.दीनदयाल उपाध्याय, डॉ.श्यामाप्रसाद मुखर्जी के चित्र पर माल्यार्पण व दीप प्रज्वलित किया। वही इस दौरान उनका स्वागत कर रहे बीजेपी विधायकों से उन्होंने गर्मजोशी से मुलाकात की हालांकि इस दौरान मंत्री उषा ठाकुर को वो मुंह ढंकने की सलाह भी देते आये। इस दौरान सभी बीजेपी विधायक, इंदौर सांसद शंकर लालवानी सहित कई बड़े बीजेपी नेता मौजूद थे।

कांग्रेस पर साधा निशाना

साँवेर विधानसभा बैठक के दौरान उन्होंने बीजेपी नेताओ व कार्यकर्ताओं से कहा कि यह भाषण देने का समय नही है मेरे सामने जो बैठे है वो असली योद्धा है। उन्होंने इस दौरान कहा कि जब कोई घर मे प्रवेश करता है तो उसके मन मे कई सवाल आते है लेकिन मुझे सभी का प्रेम मिला जो मेरे लिए अद्भत है और इसका ऋणी रहूंगा। इसके बाद उन्होंने सीधे कांग्रेस पर निशाना साधा और कहा कि 15 महीनों की सरकार में कांग्रेस सरकार किसानों की कर्जमाफी, कन्यादान राशि सहित अन्य कई जनहितैषी योजनाओं पर वादाखिलाफी ही नही की बल्कि 15 साल से जो योजनाएं चल रही थी उन्हें भी एक – एक कर बन्द कर दिया। झूठे वादे कर चुनाव के समय कांग्रेस ने सरकार तो बना ली लेकिन जब मैंने कांग्रेस सरकार और सीएम कमलनाथ से कहा कि आप प्रदेश की जनता के साथ छल नही कर सकते है और जनता से किये गए वादे पूरे नही किये गये तो मैं सड़को पर उतर जाऊंगा, तब मुझे जबाव मिला कि उतर जाओ। ऐसे में मैंने सत्य की रक्षा के लिए 22 विधायक सहित 6 कैबिनेट मंत्रियों ने इस्तीफा दे दिया। इस दौरान बीजेपी नेताओं व कार्यकर्ताओं ने उन्हें विश्वास दिलाया कि उपचुनाव के एपिसेंटर बन चुके साँवेर में ऐतिहासिक जीत के लिए जी तोड़ मेहनत करेंगे और विजयश्री हासिल करेंगे।

ताई के घर पहुंचे देरी के लिए मांगी माफी, कभी मराठी तो कभी इंग्लिश और हिंदी में बात की

ज्योतिरादित्य सिंधिया का कार्यक्रम में बीजेपी कार्यकर्ताओं के उत्साह के चलते देरी हो गई लेकिन जब वो पूर्व लोकसभा स्पीकर और ताई सुमित्रा महाजन से मिले तो बड़ी आत्मीयता से पहले उन्होंने मराठी में उनका अभिवादन किया फिर इंग्लिश और हिंदी का भाषा का उपयोग भी ताई से बात करते समय दिखाई दिए। इतना ही नही उन्होंने कहा ताई से ये भी कहा कि उनके लोकसभा स्पीकर बनने से वो पहले वो उनकी शरण मे थे और लोकसभा स्पीकर बनने के बाद तो वो उनकी शरण मे आ ही गए थे और अब भी वो उनकी शरण मे है। इस बात पर ताई भी मन्द मन्द मुस्काती नजर आई। कैबिनेट मंत्री पूरे समय उनके साथ रहे है और ये जरूरी भी था क्योंकि उन्ही के लिए इस विशेष दौरे की सरंचना की गई थी। ताई के घर लंबे समय तक बंद कमरे में बीजेपी विधायक, रमेश मेंदोला, आकाश विजयवर्गीय, साँवेर चुनाव संचालक मधु वर्मा , नगर अध्यक्ष गौरव रणदिवे सहित अन्य नेताओं के बीच लंबी मंत्रणा चली।

बाल-बाल बचे सिंधिया

इधर, ताई से मिलने के बाद वो भोजन के लिए सीधे बीजेपी के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के नंदानगर स्थित घर पहुंचे। हालांकि बीजेपी राष्ट्रीय महासचिव विजयवर्गीय बंगाल में मौजूद है। लिहाजा, विधायक रमेश मेंदोला और आकाश विजयवर्गीय सहित उनके पूरे परिवार ने ज्योतिरादित्य सिंधिया के आगमन पर उनका स्वागत किया। जैसे ही ज्योतिरादित्य सिंधिया विजयवर्गीय के घर मे प्रवेश कर रहे थे उसी दौरान कार्यकर्ताओं की भीड़ भी अंदर पहुंचने की जुगत में धक्का मुक्की करने लगी और सिंधिया बस गेट से कुछ आगे ही निकले थे कि गेट का कांच टूटकर बिखर गया गनीमत ये रही कि सिंधिया गेट पार के चुके थे नही उनको चोंट भी पहुंच सकती थी। इसके बाद सिंधिया ने विधायक आकाश विजयवर्गीय और रमेश मेंदोला से बातचीत की और फिर सभी ने भोजन भी एक साथ किया।

तुलसी सिलावट के लिए रणनीति तेज

देर रात सक्रिय रहे सिंधिया के मन मे बस एक बात थी कि तुलसी आपको सौंप दिया बस उसकी मदद करे। विजयवर्गीय के घर विदा होने के बाद सिंधिया रात करीब 1 बजे होटल मेरियट पहुंचे जहां उन्होंने शहर के कई गणमान्य लोगो से मुलाकात की। रात्रि विश्राम के बाद आज सुबह वो दिल्ली के लिये रवाना होंगे।कुल मिलाकर, सिंधिया किसी भी हालत में साँवेर में तुलसी को खिलते देखना चाहते है और ये ही वजह रही कि सोमवार को दिनभर वो कांग्रेस और 15 माह की कमलनाथ सरकार पर निशाना साधते रहे और माना जा रहा है कि सिंधिया के इंदौर दौरे के बाद बीजेपी कार्यकर्ताओं में भी नया उत्साह जागा है जिसका सीधा मतलब है कि बीजेपी क्स संभावित उम्मीदवार मंत्री तुलसीराम सिलावट के सामने कांग्रेस को जीत के लिए एड़ी चोटी का जोर लगाना पड़ेगा

फिलहाल, साँवेर में कांग्रेस गंगाजल बांटकर शुद्ध के लिए युद्ध मे लगी हुई है लेकिन बीजेपी के तरकश में भी कई तीर है। ऐसे में इस प्रतिष्ठा वाली सीट पर दोनों पार्टियां जमकर जोर आजमाइश करती नजर आ रही है।