आयोध्या मंदिर : राम मंदिर के निर्माण कार्य का ऐतहासिक दिन, योगी ने रखा गर्भगृह की आधारशिला का पहला पत्थर

गर्भगृह की आधारशिला का काम दिसंबर 2023 तक पूरा हो जाएगा। मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि शुभ मुहूर्त 24 जनवरी 2024 को श्रीराम लला को विराजमान किया जाएगा।

लखनऊ, डेस्क रिपोर्ट। अयोध्या में भव्य राममंदिर के निर्माण के लिए आज ऐतिहासिक दिन है। चबूतरे का काम पूर्ण होने के बाद आज से गर्भगृह का निर्माण कार्य शुरू हो गया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आज गर्भगृह की आधारशिला का पत्थर रखा। इसके साथ ही 29 मई से शुरू हुआ सर्वदेव अनुष्ठान का समापन हो गया।

गर्भगृह की आधारशिला का काम दिसंबर 2023 तक पूरा हो जाएगा। मंदिर के मुख्य पुजारी आचार्य सत्येंद्र दास ने बताया कि शुभ मुहूर्त 24 जनवरी 2024 को श्रीराम लला को विराजमान किया जाएगा।

सीएम योगी ने आधारशिला का पत्थर रखने के बाद कहा, “आज से शिलाओं के रखने का काम तेजी से शुरू हो जाएगा, अब वो दिन दूर नहीं है जब मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम का भव्य मंदिर अयोध्या धाम में बनकर तैयार हो जाएगा, यह मंदिर भारत का राष्ट्र मंदिर होगा।”

ये भी पढ़े … ‘तड़प तड़प’ से पहचान मिलने के बाद खड़ी की अपनी रियासत

उन्होंने आगे कहा, ” पिछले 500 साल से देश के साधु-संत राम मंदिर आंदोलन को चला रहे थे, आज उन सभी लोगों के दिल को खुशी मिली होगी, गर्भगृह का पहला पत्थर रख दिया है, गोरक्षनाथ पीठ की तीन पीढ़ी इस मंदिर आंदोलन से जुड़ी हुई थी।”

इस दौरान सीएम के साथ उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्या, श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के अध्यक्ष नृत्य गोपाल दास, महामंत्री चंपत राय समेत तकरीबन 250 साधु संत और राजनैतिक हस्तियां मौजूद थी। अब सीएम योगी निर्माण स्थल के पास द्रविड़ शैली में बने मंदिर के प्राण प्रतिष्ठा कार्यक्रम में भी शामिल होंगे।

बता दे इससे पहले 5 अगस्त 2020 को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने राम मंदिर निर्माण की आधारशिला रखी थी। गर्भ गृह का काम पूरा होते ही भव्य राम मंदिर को दिसंबर 2023 में दर्शन के लिए खोल दिया जाएगा।