Bank FD: ग्राहकों के लिए अच्छी खबर, इस बैंक ने बढ़ाया एफडी और सेविंग अकाउंट पर ब्याज, इतनी हैं नई दरें 

Bank FD: बचत के लिए सेविंग अकाउंट और फिक्स्ड डिपॉजिट दोनों ही शानदार विकल्प माने जाते हैं। इन्हें निवेश के लिए सुरक्षित तरीका भी माना जाता है। डीसीबी बैंक ने एफडी और बचत खाता दोनों की ब्याज दरों में हाल में इजाफा किया है। सिर्फ एफडी पर ही नहीं सेविंग अकाउंट पर भी 8 फीसदी तक का ब्याज ग्राहकों को मिल रहा है। नई दरें प्रभावी भी हो चुकी है।

सेविंग अकाउंट की ब्याज दरें

बचत खाते पर आकर्षक ब्याज पाने के लिए खाताधारकों को एक् निर्धारित राशि अपने अकाउंट में बैलेंस करना अनिवार्य होता है। बैंक 50 लाख से लेकर 2 करोड़ रुपये से कम के बैंक बैलेंस पर 7.25 फीसदी ब्याज दे रहा है। 10 करोड़ से लेकर 50 करोड़ रुपये से कम और 50 करोड़ से लेकर 200 करोड़ से कम के बैंक बैलेंस पर 8 फीसदी ब्याज मिल रहा है। 1 लाख रुपये की राशि अकाउंट में होने पर 2 फीसदी ब्याज मिलेगा। 10-50 लाख रुपये के बैंक बैलेंस पर 7 फीसदी, 5-10 लाख रुपये की राशि पर 6.25 फीसदी और 2-5 लाख रुपये के बैंक बैलेंस पर 5.25 फीसदी इंटरेस्ट मिल रहा है।

फिक्स्ड डिपॉजिट की ब्याज दरें

DCB Bank फिक्स्ड डिपॉजिट पर समान्य नागरिकों को अधिकतम 8 फीसदी और वरिष्ठ नागरिकों को अधिकतम 8.50 फीसदी ब्याज ऑफर कर रहा है। सीनियर सिटीजन को समान्य ग्राहकों के मुकाबले 0.50 फीसदी अधिक इंटरेस्ट मिल रहा है। 700 दिनों से 3 साल से कम की एफडी पर 8 फीसदी ब्याज मिलेगा। 15 महीने से लेकर 18 महीने की एफडी पर 7.50 फीसदी और 18 महीने से लेकर 700 दिनों की एफडी पर 7.75 फीसदी ब्याज मिल रहा है। वहीं 1 साल से लेकर 15 महीने की फिक्स्ड डिपॉजिट पर 7.25 फीसदी ब्याज मिल रहा है। 7-45 दिनों की एफडी पर 3.75 फीसदी, 46-90 दिनों की एफडी पर 4 फीसदी और 91 दिनों से लेकर 6 महीने की एफडी पर 4.75 फीसदी ब्याज मिल रहा है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News