दिवाली से पहले इस सरकारी बैंक ने लॉन्च किया स्पेशल सेविंग अकाउंट, मिनिमम बैलेंस की टेंशन खत्म, ग्राहकों को मिलेंगी कई सुविधाएं

saving account

Special Saving Account: सेविंग अकाउंट को बचत के लिए बेस्ट विकल्प माना जाता है। देश की बड़ी आबादी बचत के लिए सेविंग अकाउंट में निवेश करती है। फेस्टिव सीजन को देखते हुए पब्लिक सेक्टर के बैंक ऑफ बड़ौदा (Bank Of Baroda) ने नया स्पेशल सेविंग अकाउंट लॉन्च किया है। इसका नाम बीओबी लाइट सेविंग अकाउंट (BoB Lite Saving Account) है। यह एक लाइफटाइम ज़ीरो बैलेंस सेविंग अकाउंट है, जिसे “बीओबी के संग त्योहारों के उमंग” के तहत शुरू किया गया है।

सेविंग अकाउंट के फीचर्स

इस बचत खाता के तहत ग्राहकों को मिनिमम बैलेंस को मेंटेन करने की जरूरत नहीं पड़ेगी। साथ ही कई सुविधाओं का लाभ भी मिलेगा। एक निर्धारित जमाराशि पर मुफ़्त में रुपे प्लेटिनम डेबिट कार्ड के साथ-साथ कुछ लाइफटाइम फ्री कार्ड्स भी मिलता है। RuPay Platinum Debit Card का प्राप्त करने के लिए मेट्रो शहरों के खाताधारकों को 3000 रुपये का तिमाही बैलेंस शीट बनाना जरूरी होगा। वहीं अर्द्ध शहरी क्षेत्रों के लिए 2, 000 रुपये और ग्रामीण क्षेत्रों के लिए 1,000 रुपये की राशि तय की गई है। इसके अलावा 30 पन्नों का चेक बुक मुफ़्त में मिलता है।

कौन उठा सकता है लाभ?

इस बचत खाता स्कीम का लाभ 10 वर्ष के अधिक आयु का कोई भी व्यक्ति उठा सकता है। इसके लिए 10-14 वर्ष आयु वर्ष के एकल खाते (Single Account) में अधिकतम बकाया शेष राशि 10 हजार रुपये से अधिक नहीं होनी चाहिए। रुपे प्लेटिनम डेबिट कार्ड होल्डर्स यदि जमा राशि को मेन्टेन करने में विफल होते हैं तो उन्होनें जुर्माना भरना पड़ सकता है।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News