IT Department Action: आयकर विभाग की बड़ी कार्रवाई, दिग्गज कंस्ट्रक्शन कंपनी पर लगाया 4.68 करोड़ का जुर्माना, ये है वजह

लर्सन एंड टुर्बो लिमिटेड पर आयकर विभाग ने 4.68 करोड़ रुपए का जुर्माना लगाया है। कंपनी ने विभाग के खिलाफ अपील दायर करने की बात कही है।

income tax department

Income Tax Department Action: चुनाव के नतीजे घोषित होने से पहले आयकर विभाग का बड़ा एक्शन सामने आया है। राम मंदिर के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाली कंपनी “लर्सन एंड टुर्बो लिमिटेड (L&T Limted) पर आईटी डिपार्टमेंट ने 4.98 करोड़ से रुपये अधिक का जुर्माना लगाया है इस एक्शन का असर शेयर बाजार में देखने को मिल सकता है।

क्यों लगा जुर्माना?

इस बात कि जानकारी कंपनी ने शनिवार को शेयर बाजार को दी और कहा कि “आयकर विभाग ने पूर्ववर्ती एल एंड टी हाइड्रोकार्बन इंजीनियरिंग लिमिटेड की कार्यवाही को लेकर 4,68,91,352 रुपए का जुर्माना लगाया है।” बता दें कि L&T हाइड्रोकार्बन इंजीनियरिंग लिमिटेड पहले एक पूर्ण स्वामित्व वाली सब्सिडियरी कंपनी थी, जिसका विलय 1 अप्रैल 2021 को कंपनी में हो गया था।

आईटी विभाग के खिलफ दायर करेगा अपील

कंपनी ने शुल्क से असहमति जताते हुए विभाग के एक्शन के खिलाफ अपील दायर करने की बात कही है। 27 डॉलर की यह बहुराष्ट्रीय कंपनी इंजीनियरिंग, खरीद और निर्माण परियोजनाओं, हाई-टेक विनिर्माण और सेवाओं से जुड़ी हुई है।

शेयर मार्केट में दिख सकता है असर

एल एंड टी लिमिटेड का शेयर बाजार में मार्केट कैप 5,04,177.35 करोड़ रुपये है। निवेशकों को शेयरों से काफी मुनाफा भी हुआ। कंपनी ने एक साल में 65% तक रिटर्न भी दिया है। 6 महीने करीब 20%, 2 साल में 122% और 3 साल में 150% रिटर्न दिया। 31 मई को इस कन्स्ट्रक्शन कंपनी के शेयर 0.89 % की वृद्धि के साथ बंद हुआ था, शेयरों का लेवल बढ़कर 3667.40 तक देखा गया। पिछले 5 दिनों में शेयर में 41 अंक की बढ़ोत्तरी हुई। वहीं बीते एक महीने में शेयर 5% तक बढ़ा।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"