CBSE News: छात्रों के लिए जरूरी खबर, 20 मई तक करें अंकों के सत्यापन के लिए आवेदन, जानें पुनर्मूल्यांकन की तारीख

Manisha Kumari Pandey
Published on -
cbse board exam 2024

CBSE News: सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकन्डेरी एजुकेशन ने दसवीं और बारहवीं के परिणाम जारी कर दिए हैं। सीबीएसई ने अब अंकों का सत्यापन (Verification Of Marks) भी शुरू कर दिया है। जल्द ही पुनर्मूल्यांकन की सुविधा भी शुरू होगी। 16 मई से लेकर 20 मई, 2023 तक असन्तुष्ट छात्र आवेदन कर सकते हैं। सुविधा का लाभ छात्र -छात्राएं ऑफिशियल वेबसाइट cbse.gov.in पर जाकर उठा सकते हैं।

वेरीफिकेशन की अंतिम तारीख

अंकों का सत्यापन करने के लिए ऑनलाइन आवेदन प्रक्रिया आज से शुरू हो चुकी है। छात्रों को यह प्रक्रिया पूर्ण करने के लिए छात्रों को 20 मई रात 11:59 बजे तक का अवसर प्रदान किया जाएगा। प्रत्येक विषय के लिए बारहवीं के विद्यार्थियों को 500 रुपये शुल्क का भुगतान करना होगा। वहीं 10वीं के छात्रों के लिए शुल्क 500 रुपये है। उत्तरपुस्तिका की फोटो कॉपी प्राप्त करने के लिए इच्छुक छात्र 31 मई से 1 जून तक आवेदन कर सकते हैं।

इस दिन शुरू होगा पुनर्मूल्यांकन

पुनर्मूल्यांकन (Re-evaluation) की सुविधा के लिए आवेदन प्रक्रिया 5 जून और 6 जून तक जारी रहेगी। उत्तर पुस्तिका की फोटो कॉपी प्राप्त करने वाले छात्र ही इसके लिए अप्लाइ कर सकते हैं। पुनर्मूल्यांकन के परिणाम फाइनल होंगे। उसके खिलाफ कोई भी समीक्षा या अपील पर सीबीएसई विचार नहीं करेगा।

पुनर्मूल्यांक और सत्यापन के लिए स्टेप्स

  • सबसे पहले सीबीएसई की ऑफिशियल वेबसाइट पर जाएं।
  • अब होमपेज “Re-evaluation” के लिंक पर क्लिक करें।
  • लॉग इन करने के लिए पूछी गई जानकारी दर्ज करें।
  • स्क्रीन पर रि-चेकिंग का फॉर्म दिखेगा, इस पर सारी जानकारी सही-सही दर्ज करें।
  • शुल्क का भुगतान करें और सबमिट बटन पर क्लिक करें।

 

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News