Cello Wolrd IPO: आईपीओ लाने की तैयारी में सेलो वर्ल्ड, इश्यू के जरिए जुटाएगा 2000 करोड़ रुपये

Cello Wolrd IPO: लंबे समय से सेलों वर्ल्ड प्राइवेट लिमिटेड किचन से जुड़े प्रोडक्ट्स का कारोबार कर रही है। देश में इसका कारोबार भी बहुत मजबूत है। कंपनी अपना इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग लाने की तैयारी में जुटी हुई है। मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक कंपनी आईपीओ के जरिए करीब 2000 करोड़ रुपये जुटाएगी। ऑफर फॉर सेल विंडो के तहत नए शेयरों की पेशकश की जाएगी है।

चल रही है इनवेस्टमेंट बैंकों से बात

फिलहाल, कंपनी 5 इनवेस्टमेंट बैंकों से इस मामले पर चर्चा कर रहा है। जिसके लिए कोटक महिंद्रा कैपिटल, जेएम फाइनेंशियल, आईसीआईसीआई सेक्योरिटीज आईआईएफएल कैपिटल और मोतीलाल ओसवाल इनवेस्टमेंट एड्वाइजर्स के तौर पर जुड़ रहे हैं।

जून में दाखिल होंगे आईपीओ के ड्राफ्ट पेपर्स

आईपीओ के लिए ड्राफ्ट पेपर्स जून तक SEBI के पास दाखिल हो सकते हैं। इस ऑफरिंग के जरिए आईसीआईसीआई वेंचर भी अपने शेयरों की बिक्री कर सकता है। पिछले साल नवंबर में सेलो वर्ल्ड में 360 करोड़ रुपये निवेश करने की घोषणा की थी।

कंपनी के बारे में

राठौड़ परिवार द्वारा सेलो ग्रुप की स्थापना मुंबई में वर्ष 1967 में किया गया था। चूड़ियों और पीवीसी फुटवियर की छोटी सी फैक्ट्री के साथ कंपनी ने कारोबार की शुरुआत की थी। फिलहाल। देशभर में 18 फैक्ट्रीयां, 9 हजार फैक्ट्री कर्मचारी, 26 लाख स्क्वॉयर फीट का उत्पादन क्षेत्र, 1200 सेल्स एम्प्लॉय और 450 कॉर्पोरेट एम्प्लॉय मौजूद हैं। साथ में 14 कैटेगरी में 10,000 से अधिक प्रोडक्ट्स बिक रहे हैं।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News