Gold Silver Rate Today : जन्माष्टमी पर सोना सस्ता, चांदी भी लुढ़की, देखें क्या है ताजा कीमतें

Atul Saxena
Published on -

Gold Silver Price Today 6 September 2023 : आज बुधवार जन्माष्टमी के दिन सराफा बाजार में उत्साह दिखाई दे रहा है उसका कारण ये है कि सोना और चांदी दोनों मंगलवर की तरह ही एक बार फिर सस्ते भाव पर कारोबार करते दिखाई दे रहे हैं। आज 6 सितंबर 2023 को सराफा बाजार में सोने चांदी की नई कीमतें (Gold Silver Rate Today 6 September 2023) जारी की गईं। आज सोना (24 कैरेट) 110/- रुपये प्रति 10 ग्राम सस्ती कीमत पर ओपन हुआ और चांदी बड़ी गिरावट के साथ 500/- रुपये प्रति किलोग्राम सस्ते भाव पर ओपन हुई।

55,150/- रुपये है 22 कैरेट सोने का ताजा भाव

22 कैरेट सोने की कीमत की बात करें तो दिल्ली सराफा बाजार में आज 10 ग्राम सोने की कीमत (Gold Rate Today) 55,150/- रुपये, मुंबई सराफा बाजार में 55,000/- रुपये, कोलकाता सराफा बाजार में 55,000/- रुपये और चेन्नई सराफा बाजार में कीमत 55,300/- रुपये है।

24 कैरेट सोने की क्या है कीमत, यहाँ देखें   

24 कैरेट सोने की कीमत की बात करें तो दिल्ली सराफा बाजार में आज 10 ग्राम सोने की कीमत (Gold Rate Today) 60,200/- रुपये, मुंबई सराफा बाजार में 60,000/- रुपये, कोलकाता सराफा बाजार में 60,000/- रुपये और चेन्नई सराफा बाजार में कीमत 60,330/- रुपये है।

74,700/- रुपये में मिल रही एक किलो चांदी  

चांदी की कीमत की बात करें तो दिल्ली सराफा बाजार में आज 01 किलोग्राम चांदी की कीमत (Silver Rate Today) 74,700/- रुपये है, मुंबई सराफा बाजार में 74,700/- है और कोलकाता सराफा बाजार में चांदी की कीमत 74,700/- रुपये है जबकि चेन्नई सराफा बाजार में कीमत 78,500/- रुपये है।

भारत में चांदी का उत्पादन

भारत में चांदी का उत्पादन बहुत कम मात्रा में होता है। भारत में चांदी का उत्पादन झारखंड में संथाल और उत्तराखंड में अल्मोड़ा, राजस्थान की जावर माइन्स, कर्नाटक में चित्रदुर्ग और बेल्लारी, आंध्रप्रदेश में गुंटूर, करनूल और कणप्पा जिलों में होता है । चांदी की अधिक मांग को देखते हुए इसकी आवश्यकता को पूरा करने के लिए भारत इसे इटली, जर्मनी,  बेल्जियम सहित कुछ अन्य देशों से चांदी का आयात करता है।


About Author
Atul Saxena

Atul Saxena

पत्रकारिता मेरे लिए एक मिशन है, हालाँकि आज की पत्रकारिता ना ब्रह्माण्ड के पहले पत्रकार देवर्षि नारद वाली है और ना ही गणेश शंकर विद्यार्थी वाली, फिर भी मेरा ऐसा मानना है कि यदि खबर को सिर्फ खबर ही रहने दिया जाये तो ये ही सही अर्थों में पत्रकारिता है और मैं इसी मिशन पर पिछले तीन दशकों से ज्यादा समय से लगा हुआ हूँ.... पत्रकारिता के इस भौतिकवादी युग में मेरे जीवन में कई उतार चढ़ाव आये, बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ा लेकिन इसके बाद भी ना मैं डरा और ना ही अपने रास्ते से हटा ....पत्रकारिता मेरे जीवन का वो हिस्सा है जिसमें सच्ची और सही ख़बरें मेरी पहचान हैं ....

Other Latest News