आज खुल गया Infollion Research Services का IPO, 31 मई तक दांव लगाने का मौका, जून में होगी लिस्टिंग, जानें डीटेल

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Infollion Research Services IPO: इन्फोलियोन रिसर्च सर्विसेज़ लिमिटेड ने 29 मई यानि आज अपना आईपीओ खोल दिया है। निवेशक 31 मई तक दांव लगा पाएंगे। कंपनी B2B मार्केटप्लेस है, जिसकी स्थापना 2009 में हुई थी। इश्यू से जुटाई गई रकम का इस्तेमाल कंपनी यूएस और पश्चिमी यूरोपीय क्षेत्रों में वर्तमान सर्विस लाइन के विस्तार, पेक्स पैनल फ्रीलांसरों की नई श्रेणी को जोड़ने,  प्रौद्योगिक विकास और समान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों की पूर्ति के लिए करेगी।

आज सुबह 11:22 बजे तक आईपीओ को 2.97 गुना सबस्क्राइब किया जा चुका है। रीटेल सब्स्क्रिप्शन 1.38 गुना है। QIB के लिए 25.55%, NII के लिए 28.43% और रीटेल के लिए 46.02% शेयरों को रिजर्व किया गया है।

21.45 करोड़ रुपये का फंड जुटाने के लिए कंपनी ने कुल 2,616,000 शेयरों को जारी किया है। ऑफर फॉर सेल के लिए 392,000 शेयरों की पेशकश की गई है। आईपीओ का फेस वैल्यू 10 रुपये प्रति शेयर है। वहीं प्राइस बैंड 80-82 रुपये प्रति शेयर और लॉट साइज़ 1600 शेयर्स हैं।

इश्यू की लिस्टिंग एनएसई और SME पर होगी। लिस्टिंग के लिए 8 जून की तारीख निर्धारित की गई है। गौरव मुंजल कंपनी के प्रोमोटर हैं।लीड मैनेजर Holani Consultants Private Limited हैं। वहीं लिंक इनटाइम इंडिया प्राइवेट लिमिटेड आईपीओ के रजिस्ट्रार हैं।

(Disclaimer: इस खबर का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News शेयर मार्केट या आईपीओ में निवेश करने की सलाह नहीं देता।)

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News