13 साल बाद ये कंपनी लाएगी IPO, इश्यू के जरिए 2800 करोड़ रुपये जुटाने का है प्लान, SEBI के पास दायर किए कागजात

Manisha Kumari Pandey
Published on -

Upcoming IPO: जेएसडब्ल्यू ग्रुप के अंतर्गत आने वाली कंपनी JSW Infrastructure आईपीओ लाने के लिए तैयार हो चुकी है। इस संबंध में कंपनी मार्केट रेगुलेटर SEBI के पास ड्राफ्ट रेड हेरिंग प्रोस्पेक्टस (DRHP) भी फ़ाइल कर दिया है। ड्राफ्ट पेपर्स के मुताबिक कंपनी इश्यू के जरिए 2800 करोड़ रुपये जुटाने का टारगेट रखती है। केवल नए शेयरों को जारी किया जाएगा।

बता दें की जेएसडब्ल्यू इंफ्रास्ट्रक्चर आईपीओ सज्जन जिंदल की कंपनी जेएसडब्ल्यू ग्रुप की तीसरी लिस्टिंग है। इससे पहले जनवरी 2010 में जेएसडब्ल्यू एनर्जी का आईपीओ आया था। इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग के तहत जुटाई गई रकम में से 880 करोड़ रुपये का इस्तेमाल कंपनी अपनी सब्सिडियरी जेएसडब्ल्यू धरमतर पोर्ट के कर्ज भुगतान के लिए करेगी। साथ ही जेएसडब्ल्यू जयगढ़ पोर्ट में इन्वेस्टरमेंट में करेगी। 863.03 करोड़ रुपये का इस्तेमाल एलपीजी टर्मिनल प्रोजेक्ट और 102 करोड़ रुपये का इस्तेमाल ड्रेजर की खरीददारी और इंस्टॉलमेंट के लिए करेगी। 59.40 करोड़ रुपये का इस्तेमाल इलेक्ट्रिकल सब स्टेशन में किया जाएगा। वहीं 151.63 करोड़ रुपये को जेएसडब्ल्यू मंगलोर कंटेनर टर्मिनल में इन्वेस्ट किया किया जाएगा।

जेएम फाइनेंशियल आईपीओ के लीड मैनेजर हैं। वर्ष 2021-22 में यह कंपनी भारत की दूसरी सबसे बड़ी कमर्शियल पोर्ट ऑपरेटर रह चुकी है। इसकी हैंडलिंग क्षमता 153.43 मिलियन टन रही थी। दिसंबर 2022 में जेएसडब्ल्यू इंफ्रास्ट्रक्चर के कार्गो वॉल्यूम हैंडलिंग में 35%, ऑपरेशनल प्रॉफ़िट में 31%, रेवेन्यू में 41% और शुद्ध मुनाफे में 30% की वृद्धि दर्ज की गई थी।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News शेयर मार्केट और आईपीओ में निवेश करने की सलाह नहीं देता।)

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News