आज खुल गया Mono Pharmacare Limited का IPO, 30 अगस्त तक दांव खेलने का मौका, निवेश से पहले जान लें ये बातें

Manisha Kumari Pandey
Published on -

IPO Alert: 28 अगस्त यानि आज दवाइयों की मार्केटिंग और डिस्ट्रब्यूशन करने वाली एक कंपनी ने अपना आईपीओ खोल दिया है। Mono Pharmaceutical Limited वर्ष 1994 से ही एंटीबायोटिक्स, एंटएसिड, कफ कोल्ड ऐलर्जी मेडिसन, कॉस्मोकेयर प्रॉडक्ट्स से कारोबार से जुड़ा है। सुबह 10:29 बजे तक इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग को 0.08 गुना सबस्क्राइब किया गया है। रीटेल कैटेगरी में सब्स्क्रिप्शन 0.29 गुना है।

आईपीओ के बारे में

कंपनी ने 14.84 करोड़ रुपये का जुटाने के लिए 5,300,000 शयरों को जारी किया है। इश्यू का फेस वैल्यू 10 रुपये प्रति शेयर है। प्राइस बैंड 26 रुपये से लेकर 28 रुपये है। वहीं लॉट साइज़ 4000 शेयर्स हैं। QIB कैटेगरी के लिए 10%, NII के लियव 45% और रीटेल के लिए 45% शेयरों को रिजर्व किया गया है। एक लॉट की कीमत 112,000 रुपये है।

महत्वपूर्ण तारीखें

निवेशक 30 अगस्त तक आईपीओ नें दांव लगा सकते हैं। 4 सितंबर को इश्यू का अलॉटमेंट किया जाएगा। 5 सितंबर को रिफन्ड की प्रक्रिया शुरू होगी। वहीं 7 सितंबर को आईपीओ की  लिस्टिंग होगी।

कौन है प्रोमोटर और रजिस्ट्रार?

ऑफरिंग का रजिस्ट्रार Bigshare Services Private Limited है। लीड मैनेजर यूनीस्टोन कैपिटल प्राइवेट लिमिटेड है। वहीं प्रोमोटर्स के नाम Panilam  Lakhatariya और Supal Lakhatariya हैं।

इश्यू का कारण

इश्यू के जुटाई गई रकम का इस्तेमाल कंपनी कार्यशील पूंजी आवश्यकताओं, समान्य कॉर्पोरेट उद्देश्यों और निर्गम व्यय को पूरा करने के लिए करेगी।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News शेयर मार्केट या आईपीओ में निवेश करने की सलाह नहीं देता।)

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News