Pension Plan: खास है ये सरकारी स्कीम, 60 के बाद मिलेगी 1000 रुपये मंथली पेंशन, नहीं पड़ेगी निवेश की जरूरत

Manisha Kumari Pandey
Published on -
pension plan

Pension Plan: केवल केंद्र सरकार की राज्य सरकार भी वरिष्ठ नागरिकों को आर्थिक रूप से सशक्त बनाने के लिए योजनाएं चलाती है। गरीबों के पास रिटायरमेंट प्लान करने के लिए कुछ नहीं बचता। उनकी आमदनी कम और खर्चे ज्यादा होते हैं। जिसके कारण किसी भी योजना में निवेश करना मुश्किल हो जाता है। हम आपको मध्यप्रदेश राज्य सरकार की खास योजना के बारे में बताने जा रहे हैं, जिसमें निवेश के बिना 1000 रुपये की मंथली पेंशन मिलती है। इस स्कीम का नाम वृद्धा पेंशन योजना है।

स्कीम के बारे में

वृद्धा पेंशन योजना का लाभ 60 वर्ष या उससे अधिक उम्र के व्यक्ति उठा सकते हैं। इसका लाभ केवल बीपीएल कार्ड धारक वरिष्ठ नागरिक ही उठा सकते हैं। योजना का मुख्य उद्देश्य राज्य के सभी निराश्रित बुजुर्गों को हर महीने पेंशन के रूप में वित्तीय सहायता प्रदान करना है। जिससे बुढ़ापे में जीवन जीना आसान और सुविधाजनक हो जाता है। बुजुर्गों को छोटी-छोटी आवश्यकताओं के लिए किसी और के सामने हाथ फैलाने की जरूरत न पड़ें। वे लोग इस राशि से अपनी दैनिक जरूरत को पूरा कर सकें।

कैसे उठायें लाभ? 

वरिष्ठ नागरिक ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों मोड में स्कीम के लिए आवेदन कर सकते हैं। जिसके बाद हर महीने आवेदक के खाते में पेंशन की धनराशि आती है, जिसकी सूचना रजिस्टर्ड मोबाईल नंबर पर मिलती है। आवेदन करने के लिए वृद्ध के निराश्रित होने का प्रमाण पत्र, जन्म प्रमाण पत्र, मूल निवास प्रमाण पत्र, आय प्रमाण पत्र, आवेदन की तीन फोटो, आधार कार्ड, मोबाइल नंबर, बैंक खाता नंबर, बीपीएल राशन कार्ड और समग्र आईडी (9 अंकों की) की जरूरत पड़ती है। ऑनलाइन आवेदन की लिंक “http://socialsecurity.mp.gov.in” है।

(Disclaimer: इस आलेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News किसी भी स्कीम में निवेश करने की सलाह नहीं देता।)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News