बजाज फाइनेंस पर चला आरबीआई का डंडा, कर्ज वितरण पर लगी रोक, ये है वजह, पढ़ें पूरी खबर

Manisha Kumari Pandey
Published on -
rbi action

RBI Action On Bajaj Finance:  रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया ने देश के सबसे बड़े एनबीएसी “Bajaj Finance” के खिलाफ सख्त उठाया है। केंद्रीय बैंक में एनबीएफसी के दो प्रोडक्ट्स पर तत्काल रोक लगा दी है।

इन दो प्रोडक्ट्स पर लगी रोक

eCOM और Insta EMI card” के जरिए अब लोन प्रदान करने की अनुमति बजाज फाइनेंस को नहीं होगी। केंद्रीय बैंक ने यह कार्रवाई रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया एक्ट 1934 की धारा 45L( 1)(a) के तहत की है।

आरबीआई ने क्या कहा?

आरबीआई ने बुधवार को अपने बयान ने बताया कि बजाज फाइनेंस डिजिटल लोन से संबंधित दिशा निर्देशों में मौजूद प्रावधानों का पालन करने में विफल रहा। कंपनी द्वारा विशेष रूप से दो उत्पादों के तहत उधारकर्ताओं डिजिटल लोन के संबंध में मुख्य तथ्य वितरण जारी न करने और मुख्य तथ्य वितरण में कमियों के कारण आरबीआई द्वारा यह कदम उठाया गया है। रिजर्व बैंक के बयान के मुताबिक उक्त खामियों में सुधार पर उपयुक्त कमियों के सुधार पर पर्यवेक्षी प्रतिबंधों की समीक्षा की जाएगी।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News