बैंक ऑफ बड़ौदा समेत इन 3 बैंकों पर RBI ने लगाया लाखों का जुर्माना, यहाँ देखें पूरी लिस्ट

Manisha Kumari Pandey
Published on -
rbi action

Banking Update: बैंकों द्वारा नियमों का उल्लंघन करने पर अक्सर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) एक्शन लेता है। अब तक कई बैंक आरबीआई के सख्ती का शिकार बन चुके है। एक बार फिर केन्द्रीय बैंक ने कई बैंकों पर भारी जुर्माना लगाया है। इस लिस्ट में बैंक ऑफ बड़ौदा के अलावा दो अन्य बैंक भी शामिल हैं। सभी बैंकों के लिए जुर्माने के तौर पर अलग-अलग राशि तय की गई है, जिसका भुगतान उन्हें करना होगा। इस फैसले के पीछे की वजह भी सेंट्रल बैंक ने बताई है।

इन बैंकों पर लगा जुर्माना

आरबीआई ने Krazybee सर्विसेज़ प्राइवेट लिमिटेड पर 42.48 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है।। वहीं नॉर्थ ईस्ट स्मॉल फाइनेंस बैंक पर 39.50 लाख रुपये का जुर्माना लगाया गया है। देश के बड़े पब्लिक सेक्टर बैंकों में से एक BOB पर 30 लाख रुपये का जुर्माना ठोका गया है। हालांकि इसका असर ग्राहकों पर नहीं होगा।

ये है वजह

RBI के मुताबिक जांच के दौरान यह पाया गया कि बैंक ऑफ बड़ौदा छोटे खातों में लेन-देन की लिमिट का पालन नहीं कर रहा है। टर्म डिपॉजिट के कुछ खातों में ब्याज दरों से जुड़ी गड़बड़ी भी पाई गई थी। वहीं Krazybee सर्विसेज़ प्राइवेट लिमिटेड के एजेंटों द्वारा लोन वसूली के दौरान ग्राहकों को धमकियाँ देने और उत्पीड़ित करने की शिकायत मिलने के बाद केन्द्रीय बैंक ने यह कदम उठाया है। नॉर्थ ईस्ट स्मॉल फाइनेंस बैंक को उधर खातों को नॉन परफॉर्मीनग एसेट (NPA) के रूप से अलग ना रखने पाने का हर्जाना भरना पड़ा।


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News