RBI ने FD के नियमों में किया बड़ा बदलाव, नुकसान से बचने के लिए करें ये काम, पढ़ें पूरी खबर

इस नए नियम को स्मॉल फाइनेंस बैंक, कमर्शियल बैंक, सहकारी बैंक और स्थानीय क्षेत्रीय बैंकों के लिए भी लागू किया गया है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ग्राहकों की सुविधा और सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अक्सर नए-नए बदलाव करता रहता है । बैंक ने हाल ही में फिक्स डिपॉजिट से जुड़े नियमों में बदलाव किया है। अपने भी यदि बैंक में एफडी करवा रखी है तो यह खबर आपके लिए काम की साबित हो सकती है। इस नए नियम को स्मॉल फाइनेंस बैंक, कमर्शियल बैंक, सहकारी बैंक और स्थानीय क्षेत्रीय बैंकों के लिए भी लागू किया गया है।

यह भी पढ़े…त्योहार से पहले कर्मचारियों की दिवाली, खाते में आएंगे 76500 रूपए, बैठक में हुई सहमति, अक्टूबर में 1830 करोड़ रुपए का होगा भुगतान

जहां पहले एफडी की मैच्योरिटी पूरी होने के बाद, पैसा ना निकालने पर उस एफडी की अवधि बैंक आगे बढ़ा देता और आपको ब्याज मिलता रहता था, अब ऐसा नहीं होगा। यदि आपके एफडी पूरी होने पर पैसा नहीं निकाला है, तो एफडी का ब्याज दर आपके सेविंग अकाउंट पर आधारित होगा। मान लीजिए आपने बैंक में 5 साल की अवधि के लिए एफडी करवा रखी है और वह मैच्योर हो चुकी है। लेकिन आप पैसा नहीं निकाल रहे हैं तो इस दौरान तो इस दौरान दो परिस्थितियां सामने आती।

यह भी पढ़े…तहलका मचाने आ रहा है Oppo Reno 9 सीरीज, तगड़ा प्रोसेसर, मिलेगी खास और अलग चार्जिंग सुविधा, यहाँ जानें

यदि आपके एफडी पर मिल रहा बयाज दर उस बैंक के सेविंग अकाउंट पर मिल रहे ब्याज दर से कम है, तो आपके एफडी  वाला ब्याज बैंक द्वारा मिलता रहेगा। लेकिन यदि आपके एफडी पर मिल रहा ब्याज सेविंग अकाउंट पर मिल रहे ब्याज दर से ज्यादा है तो आपके सेविंग अकाउंट पर मिल रहा ब्याज आगे भी मिलता रहेगा। इसलिए मैच्योरिटी पूरी होने पर आप परिस्थितियों को देखते हुए अपना पैसा निकाल ले, यदि आप ऐसा नहीं करते हैं तो आपको नुकसान भी हो सकता है