500 रुपये के नोट को लेकर RBI ने दिया बड़ा बयान, कही यह बात, जाने यहाँ

आरबीआई ने सरकारी और प्राइवेट दोनों बैंकों को यह कहा है की हर तीन महीने में सटीकता और स्थिरता के लिए अपने नोट छँटाई मशीनो की जांच करें। यह सुनिश्चित करना भी जरूरी होगा की प्रिंटेड नोट तय मापदंडों के मुताबिक है या नहीं।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। 500 रुपये के नोट को लेकर रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) का बड़ा बयान सामने आया है। आजकल फेक या नकली करेंसी को लेकर लेकर कई खबरें सामने आ रही है। भारत में फिलहाल 500 रुपये के नोट अधिक मात्रा में पाए जाते है और एटीएम से भी ज्यादातर यही नोट निकलते हैं। 2000 रुपये के नोट को मार्केट में अब आसानी से नजर ही नहीं आते है। जहां नोटबंदी के बाद से फेक करेंसी की खबरें बढ़ रही है, इसी बीच 500 रुपये के नोट को लेकर आरबीआई ने बड़ा बयान जारी किया है। साथ ही आरबीआई ने बैंकों को करेंसी के जुड़े निर्देश भी दिए हैं।

यह भी पढ़े… MP नगर निकाय चुनाव: त्रिकोणीय मुकाबले में AIMIM सुप्रीमो की एंट्री से मची हलचल, ओवैसी की आमसभा आज

आरबीआई ने सरकारी और प्राइवेट दोनों बैंकों को यह कहा है की हर तीन महीने में सटीकता और स्थिरता के लिए अपने नोट छँटाई मशीनो की जांच करें। यह सुनिश्चित करना भी जरूरी होगा की प्रिंटेड नोट तय मापदंडों के मुताबिक है या नहीं। साथ ही आरबीआई के करेंसी के सही कंडीशन के लिए 11 मानक निर्धारित किए हैं। इतना ही नहीं आरबीआई ने बैंकों को नोट शॉर्टिंग मशीन की जगह नोट फिट शॉर्टिंग मशीन का इस्तेमाल करने की सलाह दी है। इससे नोट शॉर्टिंग मशीन समय-समय पर प्रामाणिकता को टेस्ट भी कर पाएगी। ऐसे नोट को मशीन खुद छाँट देगा जो असली नोटों की विशेषता ना रखता हो।

यह भी पढ़े… पेट्रोल-डीजल पर केंद्र सरकार ने बढ़ाया टैक्स, आज MP के इन शहरों में बढ़े पेट्रोल के दाम, जाने आज के रेट

साथ ही सभी बैंकों को अब हर तीन महीने में करेंसी की फिटनेस रिपोर्ट आरबीआई को भेजनी होगी। आरबीआई ने सही और फिट नोट को लेकर यह कहा है की एक फिट नोट वो होता है, जो जेन्युइन और क्लियर हो। साथ ही इन नोटों के वैल्यू का पता भी आसानी से लगाया जा सकता है और रीसाइकल करने भी दिक्कत नहीं होती। उन नोटों को आरबीआई अनफ़िट बताता है जो रीसाइक्लिंग के लिए उपयुक्त नहीं हो।