RBI ने इस बैंक पर डाले ताले, आपका खाता तो इसमें नहीं? पढ़ें पूरी खबर

आरबीआई ने महाराष्ट्र के आयुक्त और सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार से इस बैंक को बंद करने के लिए एक लिक्विडेटर नियुक्त करने का आदेश दिया है।

RBI

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। भारतीय रिजर्व बैंक यानि रिजर्व बैंक ऑफ़ इंडिया (RBI) बैंकों की वित्तीय स्थिति पर लगातार नजर बनाये रहती है और उसके हिंसा से उसके संचालन को जारी रखने का फैसला लेती है। RBI ने एक बार फिर एक बैंक के खिलाफ सख्त कदम उठाया है जिसके बाद बैंक का संचालन बंद (RBI orders closure of banks) हो गया है। अब इस बैंक से पैसों का लेनदेन नहीं हो सकेगा।

इस बैंक पर चला RBI डंडा

रिजर्व बैंक ने महाराष्ट्र के एक सहकारी बैंक महाराष्ट्र लक्ष्मी सहकारी बैंक लिमिटेड (Maharashtra Laxmi Sahakari Bank Limited) को बंद करने का आदेश दिया है।आरबीआई की तरफ से दी जानकारी के अनुसार लक्ष्मी सहकारी बैंक लिमिटेड का लाइसेंस रद्द (RBI cancelled bank license) किया गया है। इसके चलते यह बैंक 22 सितंबर 2022 से बैंकिंग कारोबार के लिए प्रतिबंधित हो गया है।

ये भी पढ़ें – सीएम शिवराज के निर्देश, विकास कार्य में गुणवत्ता और जनता की संतुष्टि के स्तर का रखा जाए विशेष ध्यान

RBI ने दिया ये आदेश

आरबीआई ने महाराष्ट्र के आयुक्त और सहकारी समितियों के रजिस्ट्रार से इस बैंक को बंद करने के लिए एक लिक्विडेटर नियुक्त करने का आदेश दिया है। गौरतलब है कि रिजर्व बैंक सहकारी बैंकों पर सख्ती के मूड में है। सहकारी बैंक आमतौर आरबीआई की गाइडलाइन नहीं मानते हैं, इनकी वित्तीय स्थिति ख़राब होने के बाद भी संचालन जारी रखते हैं जिसके चलते रिजर्व बैंक इनके खिलाफ कार्यवाही करता है।

ये भी पढ़ें – Hero ने दीवाली से पहले दिया झटका, जानें कितनी बढ़ी कीमतें

RBI ने अपने आदेश में ये कहा

आरबीआई ने महाराष्ट्र लक्ष्मी को-ऑपरेटिव बैंक (Maharashtra Lakshmi Co-Operative Bank) को बंद करने के आदेश में कहा है कि इस बैंक के पास पर्याप्त पूंजी और कमाई की संभावनाएं नहीं हैं। यह बैंक अपनी मौजूदा वित्तीय स्थिति में जमाकर्ताओं की पूरी राशि का भुगतान करने में असमर्थ है। ऐसे में इसको बंद करने का ही रास्ता बचा है। आरबीआई के अनुसार यह बैंकिंग विनियमन अधिनियम, 1949 की धारा 56 के साथ पठित धारा 11 (1) और धारा 22 (3) (डी) के प्रावधानों का अनुपालन नहीं करता है। यदि बैंक का कारोबार अगर बंद नहीं होता है तो डिपॉजिटर्स को बहुत नुकसान हो जाएगा।

ये भी पढें – IMD Alert : दिल्ली में जनजीवन अस्तव्यस्त, बिहार में येलो अलर्ट सहित 10 राज्यों में भारी बारिश की चेतावनी, जानें देश के मौसम का हाल

क्या होगा खाताधारकों के पैसों का

गौरतलब कि जब रिजर्व बैंक किसी बैंक को बंद करता है तो खाताधारक को डिपॉजिट इंश्योरेंस एंड क्रेडिट गारंटी कॉरपोरेशन (डीआईसीजीसी) इंश्योरेंस स्कीम के तहत 5 लाख रुपये का इंश्योरेंस कवर मिलता है। इसका मतलब यह हुआ कि हर जमाकर्ता को उसका बैंक में जमा 5 लाख रुपये तक वापस किया जाएगा। लेकिन यदि किसी ग्राहक का जमा पैसा 5 लाख रुपये से ज्यादा है, तो वह डूब जाएगा।