इलेक्ट्रिक स्कूटर्स में आग लगने की वजह आई सामने

वही आग लगने के बाद ओला ओकीनावा और प्योर इलेक्ट्रिक स्कूटर को लेकर सचेत है क्योंकि इस पर सरकार ने भी एक्शन ले लिया है और इसके जांच की जिम्मेदारी ओ रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन की CFEES (सेंटर फॉर फायर एक्सप्लोसिव एंड एनवायरमेंट सेफ्टी) इकाई को सौंपा है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। कई शहरों से देशभर में एक के बाद एक इलेक्ट्रिक स्कूटर में आग लगने की खबरें आ रही हैं। इस खबर से लोगो को डरा दिया है, क्या वाकई इलेक्ट्रिक व्हीकल सुरक्षित हैं। ऐसे वीडियो देखने और सुनने के बाद सभी लोग जानना चाहते हैं आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। ताजा सूत्रों के अनुसार इन सवालों का जवाब एथर एनर्जी इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने वाली स्टार्टअप कंपनी ने दिया है।

यह भी पढ़ें – क्या आप जानते हैं माथे पर तिलक लगाकर उस पर चावल क्यों चिपका दिया जाता है?

एथर एनर्जी के अनुसार जो बैटरी इलेक्ट्रिक गाड़ियों में इस्तेमाल हो रही है, वही इसका सबसे बड़ा रीजन है गाड़ियों में आग लगने का। क्योंकि इन बैटरियों को ठंडे इलाकों को ध्यान में रखकर बनाया गया है। जबकि भारत में हर 100 से 200 किलोमीटर के बाद तापमान चेंज हो जाता है और यहां पर गर्मी भी अधिक पड़ती है। वहीं कंपनी के एक प्रवक्ता ने कहा कि अगर इलेक्ट्रिक स्कूटर बनाने वाली कंपनियां गाड़ी की बैटरी बाहरी देशों से बुलवा रही है तो उसे भारत के मौसम के अनुकूल मॉडिफाई भी करना चाहिए।

यह भी पढ़ें – क्या आप भी शौकीन है काॅफी पीने के तो जरूर पढ़ें ये खबर

एक और प्रवक्ता ने कहा कि वह अपने उत्पाद के इलेक्ट्रिक स्कूटर में मॉडिफाइड बैटरी अलग आएगी जो भारतीय मौसम और सड़कों के अनुरूप होगी। मार्केट में गाड़ी उतारने के पहले उसे ऑन रोड टेस्टिंग की जाएगी। फिलहाल अभी गाड़ियों का रोड टेस्टिंग नहीं हो रहा है, अभी सिर्फ उनके डिजाइन पर ही कार्य चल रहा है जिसकी वजह से यह बड़ी चूक सामने आई है।

यह भी पढ़ें – Sagar News: वर्ग-3 पेपर के स्क्रीनशॉट वायरल होने का मामलाः NSUI ने किया कॉलेज का किया घेराव

उन्होंने आगे कहा कि गाड़ी का डिजाइन भले ही भारतीय परिस्थितियों के हिसाब से ना हो लेकिन उनकी ग्रेड चार्जिंग और बुरी परिस्थितियों में फसने के अनुरूप गाड़ियों का स्ट्रक्चर तैयार करना चाहिए। गाड़ियों को बाजार में लॉन्च करने से पहले सभी मांगों पर टेस्टिंग होनी चाहिए क्योंकि यात्रियों की सुरक्षा से खिलवाड़ नहीं किया जा सकता है।

यह भी पढ़ें – टाटा की नई इलेक्ट्रिक कार उड़ा देगी बाकी कार कंपनियों के होश, आइए देखें इसके खास फीचर्स

वही आग लगने के बाद ओला ओकीनावा और प्योर इलेक्ट्रिक स्कूटर को लेकर सचेत है क्योंकि इस पर सरकार ने भी एक्शन ले लिया है और इसके जांच की जिम्मेदारी ओ रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन की CFEES (सेंटर फॉर फायर एक्सप्लोसिव एंड एनवायरमेंट सेफ्टी) इकाई को सौंपा है। जो कि अभी तक लगी हुई स्कूटर में आग की जांच करेगी और इसकी रिपोर्ट सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय को देगी सुझाव के साथ।