Radio Jockey के एक मैसेज ने बदली सुमित शाह की जिंदगी, आज बन चुके हैं करोड़ों के मालिक, पढ़ें Success Story

उन्होंने दुकान ऐप की स्थापना की, जो छोटे व्यापारियों को उनके उत्पादों और सेवाओं को ऑनलाइन बेचने की सुविधा प्रदान करता है। तो चलिए आज के आर्टिकल में हम आपको 'दुकान' ऐप के फाउंडर सुमित शाह की दिलचस्प सक्सेस स्टोरी बताएंगे, जो हर किसी के लिए प्रेरणादायक हो सकता है।

Sumit Shah Success Story : मुश्किल समय में हमें नए दृष्टिकोण और नए रास्ते ढूंढने की आवश्यकता होती है। इस समय में अधिकतर लोगों की हिम्मत टूट जाती है, लेकिन कुछ लोग नई सोच के साथ निकल कर आते हैं। ये वे लोग होते हैं जो परिस्थितियों को पूरी तरह से समझते हैं और उन्हें पीछे नहीं हटने देते। ऐसी ही एक कहानी आज हम आपको सुनाने जा रहे हैं, जब कोरोना काल का समय था और सब कुछ बंद हो चुका था। उन्होंने ऐसे समय में ही उन्नत व्यावसायिक माध्यम की शुरुआत की जब दुकानें बंद हो रही थीं और लोग घरों में कैद थे। उन्होंने दुकान ऐप की स्थापना की, जो छोटे व्यापारियों को उनके उत्पादों और सेवाओं को ऑनलाइन बेचने की सुविधा प्रदान करता है। तो चलिए आज के आर्टिकल में हम आपको ‘दुकान’ ऐप के फाउंडर सुमित शाह की दिलचस्प सक्सेस स्टोरी बताएंगे, जो हर किसी के लिए प्रेरणादायक हो सकता है।

Radio Jockey के एक मैसेज ने बदली सुमित शाह की जिंदगी, आज बन चुके हैं करोड़ों के मालिक, पढ़ें Success Story

मुंबई में हुआ जन्म

सुमित शाह का जन्म साल 1990 में मुंबई में हुआ था। उन्होंने प्रारंभिक शिक्षा प्राप्त करने के बाद सांगली से इंजीनियरिंग की डिग्री हासिल की। उन्होंने डिजिटल मार्केटिंग, वेब डिजाइनिंग और डेवलपमेंट कोर्स सीखे और अपने सपनों को पूरा करने के लिए एक खुद का बिजनेस शुरू किया। उन्होंने अपने दोस्त सुभाष चौधरी के साथ मिलकर रिसमेट्रिक नाम से कारोबार शुरू किया। कोरोना काल में सुमित शाह ने अपने दोस्त सुभाष चौधरी के मिलकर साल 2020 में ‘दुकान’ ऐप लॉन्च किया। यह ऐप व्यवसायियों को ऑनलाइन माध्यम प्रदान करता है। साथ ही छोटे और मध्यम व्यापारियों को अपने ई-कॉमर्स संचालन को समर्थन देने में सक्षम बनाता है। लॉन्च के बाद ही ऐप को लोगों से अच्छी प्रतिक्रिया मिली।

कंपनी का टर्नओवर

दरअसल, कोरोना काल के दौरान उन्हें रेडियो जॉकी का एक संदेश मिला जो उन्होंने गहनता से लिया और उसे पर विचार विमर्श करते हुए आज करोड़ों की कंपनी बना डाली। उस संदेश में यह कहा गया था कि अब हम व्हाट्सएप पर ऑर्डर्स स्वीकार करते हैं। सुमित इस टेक्स्ट मैसेज को पढ़ कर हैरान रह गए थे। यहीं से उन्हें एक आईडिया मिला और महज 48 घंटे के भीतर उन्होंने अपने दोस्त के साथ मिलकर दुकान एंड्राइड ऐप बनाया जोति साल भर में इतनी तेजी से विकास हुआ कि यह कंपनी 500 करोड रुपए से भी ज्यादा की हो गई। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि लांच होने के मंत्र 20 दिन के अंदर ऐप पर डेढ़ लाख से ज्यादा ऑनलाइन स्टोर बनाए गए थे।


About Author
Sanjucta Pandit

Sanjucta Pandit

मैं संयुक्ता पंडित वर्ष 2022 से MP Breaking में बतौर सीनियर कंटेंट राइटर काम कर रही हूँ। डिप्लोमा इन मास कम्युनिकेशन और बीए की पढ़ाई करने के बाद से ही मुझे पत्रकार बनना था। जिसके लिए मैं लगातार मध्य प्रदेश की ऑनलाइन वेब साइट्स लाइव इंडिया, VIP News Channel, Khabar Bharat में काम किया है।पत्रकारिता लोकतंत्र का अघोषित चौथा स्तंभ माना जाता है। जिसका मुख्य काम है लोगों की बात को सरकार तक पहुंचाना। इसलिए मैं पिछले 5 सालों से इस क्षेत्र में कार्य कर रही हुं।