6 मार्च को खुलेगा इस केमिकल कंपनी का IPO, इतनी होगी प्राइस बैंड, यहाँ जानें डिटेल्स

Upcoming IPO Next Week: मार्च के महीने में कई कंपनिया अपना इनिशियल पब्लिक ऑफरिंग लाने वाली है। तीसरे सप्ताह में देश की एक जानी-मानी केमिकल कंपनी अपना आईपीओ खुलने वाली है। जिसका नाम MCON रसायन इंडिया लिमिटेड है। यह कंपनी साल 2016 से देश में मॉडर्न बिल्डिंग मेटेरियल और कन्स्ट्रक्शन केमिकल्स का उत्पादन, मार्केटिंग और बिक्री का काम करती है। वर्किंग कैपिटल आवश्यकताओं के लिए कलेक्ट करने और जनरल कॉर्पोरेट उद्देश्यों के लिए यह ऑफरिंग ला रही है।

इस कंपनी का आईपीओ 6 मार्च 2023 को खुलेगा। जिसमें निवेशक 10 मार्च तक दांव लगा पाएंगे। 20 मार्च को इसकी लिस्टिंग एनएसई और एसएमई पर हो सकती है। इसके प्रमोटर का नाम महेश रावजी भानुशाली है। कुल 1,710,000 शेयरों को जारी किया जाएगा। जिसकी राशि 6.84 करोड़ रुपये हैं। मार्केट मेकर पोर्शन 90,000 शेयर्स हैं। इश्यू की प्राइस प्राइस बैंड 40 रुपये हैं। निवेशक 1 लॉट की बोली लगा सकते हैं। प्रत्येक लॉट में 3000 शेयरों को शामिल किया गया है। जिसकी राशि 1,20,000 रुपये हैं। प्रोमोटर की प्री-इश्यू होल्डिंग 91.45 फीसदी है। वहीं पोस्ट शेयर होल्डिंग 66.64 फीसदी है।

बात अब कंपनी की करें तो यह 80 से अधिक प्रोडक्ट्स का कारोबार करती है। जो लिक्विड और पाउडर दोनों ही फॉर्म में उपलब्ध होते हैं। इसका मैन्युफैक्चरिंग प्लांट गुजरात के नवसारीऔर वालसाड में स्थित है। इसके पाउडर प्रोडक्ट्स में रेडी मिक्स प्लास्टर, ब्लॉक एडेसीव, टाइल एडेसीव, वॉल पुट्टी, पॉलीमर मोर्टार और फ्लोर हार्डनर शामिल हैं। वहीं लिक्विड प्रोडक्ट्स में पेंट्स, बान्डिंग एजेंट्स जैसी समाग्री शामिल है।

(Disclaimer: इस लेख का उद्देश्य केवल जानकारी साझा करना है। MP Breaking News शेयर मार्केट और आईपीओ में निवेश करने की सलाह नहीं देता। विशेषज्ञों की सलाह जरूर लें।)


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News