बिना गारंटी के लोन दे रही सरकार, ऐसे उठाए योजना का फायदा

पीएम स्वनिधि योजना (PM Svanidhi Yojana) के तहत कर्ज के ब्याज पर सब्सिडी दी जाती है। यदि पहली बार लिए गए लोन को कोई भी व्यक्ति समय पर चुका देता है तो वह दूसरी बार में 20 हजार और तीसरी बार में 50 हजार रुपये के लोन के लिए योग्य हो जाता है।

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। केंद्र सरकार छोटे व्यापारियों की मदद के लिए एक स्कीम चला रही है। पीएम स्वनिधि योजना (PM Svanidhi Yojana) के तहत रोजगार शुरू करने के लिए 10 हजार रूपये का लोन बिना किसी गारंटी के दिया जाएगा। दरअसल, सरकार ने यह योजना कोरोना महामारी के दौरान बुरी तरह प्रभावित हुए स्ट्रीट वेंडर्स के लिए शुरू की थी, ताकि वह फिर से अपने काम को पटरी पर ला सके। सरकार ने इस स्कीम को 2024 तक के लिए बढ़ा दिया है।

समय पर चुकाने से मिलेगा पांच गुना फायदा

पीएम स्वनिधि योजना (PM Svanidhi Yojana) के तहत कर्ज के ब्याज पर सब्सिडी दी जाती है। यदि पहली बार लिए गए लोन को कोई भी व्यक्ति समय पर चुका देता है तो वह दूसरी बार में 20 हजार और तीसरी बार में 50 हजार रुपये के लोन के लिए योग्य हो जाता है।

ये भी पढ़े … पुलिस ड्राइवर पदों के लिए आज जारी होगा नोटिस, ऐसे करे आवेदन

ऐसे करें लोन के लिए अप्लाई

इस योजना का लाभ लेने के लिए किसी भी सरकारी बैंक में आवेदन किया जा सकता है। इस योजना का फॉर्म सभी सरकारी बैंकों में उपलब्ध है। बैंक जाए और फॉर्म भरकर जमा करें। इसके साथ ही आपको अपने आधार कार्ड की फोटोकॉपी भी अटैच करनी होगी। आवेदन स्वीकृत होने के बाद, पहले महीने की किस्त आपके खाते में जमा कर दी जाएगी।

पीएम स्वानिधि योजना का लाभ पाने के लिए आवेदक के पास आधार कार्ड होना जरूरी है। इस ऋण के लिए कोई गारंटी देने की आवश्यकता नहीं है। एक बार आवेदन स्वीकृत होने के बाद, ऋण राशि 3 महीने के भीतर ट्रांसफर कर दी जाती है। इसे एक वर्ष की अवधि में हर महीने किश्तों में चुकाया जा सकता है।

ये भी पढ़े … कॉलेज प्रिंसिपल ने छात्रों को भाजपा में पन्ना प्रमुख बनने का दिया आदेश, कांग्रेस का चढ़ा पारा

आपको बता दे, स्ट्रीट वेंडर्स के लिए कैश-बैक सहित डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार ने इस स्कीम के बजट में इजाफा किया है। सरकार ने उम्मीद जताई है कि शहरी इलाकों के लगभग 1.2 करोड़ लोगों को इस स्कीम से लाभ मिलेगा। इस स्कीम के तहत 25 अप्रैल 2022 तक 31.9 लाख कर्ज को मंजूरी दी गईृ। इसके अलावा 29.6 लाख कर्ज के हिसाब से 2,931 करोड़ रुपये जारी किए गए। सब्सिडी ब्याज के रूप में 51 करोड़ रुपये की रकम का भुगतान किया गया।