MPPEB : राज्य शासन का बड़ा फैसला, प्रोफेशनल एग्जामिनेशन परीक्षा में ऐसे उम्मीदवारों को मिलेगी राहत

MPPEB द्वारा ऐसे उम्मीदवार 5% अतिरिक्त अंक प्रदान किया जाएगा।

MPPEB recruitment

भोपाल, डेस्क रिपो।र्ट MPPEB उम्मीदवारों (Candidates) की लंबी चली आ रही मांग पर आखिरकार मध्यप्रदेश शासन (Shivraj government) द्वारा मोहर लगा दी गई है। दरअसल मध्य प्रदेश की बीजेपी सरकार ने MPPEB के आयोजित परीक्षा में शामिल होने वाले कर्मचारियों की आयु सीमा (Age limit) में छूट देने का ऐलान कर दिया। इसके साथ ही कर्मचारियों (employees) को बोनस अंक (bonus number) भी देने की घोषणा की गई है। दरअसल इस साथ ही कैबिनेट ने सभी वर्गों के कर्मचारियों को राहत दी है।

दरअसल आज कैबिनेट की बैठक में बड़ा फैसला लेते हुए मध्य प्रदेश के कर्मचारियों को आयु सीमा में 5 वर्ष की छूट का ऐलान किया गया है। इसके साथ ही साथ से प्रदेश के लाखों कर्मचारियों प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा में शामिल होते हैं। उनके लिए यह राहत भरी खबर है।

इस मामले में गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा का कहना है कि शासकीय सेवा में कार्यरत सभी वर्ग के ऐसे उम्मीदवार जो प्रोफेशनल एग्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा में शामिल होते हैं। MPPEB द्वारा ऐसे उम्मीदवार 5% अतिरिक्त अंक प्रदान किया जाएगा। इसके साथ ही उनकी अधिकतम आयु सीमा 55 वर्ष निर्धारित की गई है।

Read More : MP : राज्य मंत्री की किसानों के लिए बड़े निर्देश, खाते में ट्रांसफर होगी राशि, करोड़ों को मिलेगा लाभ

विभिन्न वर्गों के उम्मीदवार को प्रोफेशनल एक्जामिनेशन बोर्ड द्वारा आयोजित परीक्षा में प्राप्त प्राप्तांक में 5 प्रतिशत अतिरिक्त अंक दिये जाने एवं इन वर्गों के उम्मीदवारों के द्वारा दी गई सेवा के मददेनजर अधिकतम आयु सीमा 55 वर्ष निर्धारित किये जाने का निर्णय लिया गया। विभिन्न वर्गों के उम्मीदवारों में भूतपूर्व सैनिक, अतिशेष कर्मचारी, भारत-पाक संघर्ष में दिव्यांग और मृत सैनिक आदि शामिल है।

ज्ञात हो कि मध्य प्रदेश कर्मचारी द्वारा लंबे समय से MPPEB की आयोजित परीक्षाओं में आयु सीमा को बढ़ाने के साथ ही साथ बोनस की मांग की जा रही थी। राज्य सरकार द्वारा इस मामले में कई बार जल्द फैसला लेने की बात कही गई थी। हालांकि किसी न किसी वजह से यह मामला लगातार टलता रहा था। वही आखिरकार आज मध्य प्रदेश शिवराज सरकार द्वारा प्रदेश के लाखों कर्मचारियों के लिए यह निर्णय लिया गया है।