School News: भीषण गर्मी के चलते सरकार ने उठाया बड़ा कदम, KG से 12वीं तक के स्कूल बंद, 15 जून तक रहेगी छुट्टी, आदेश जारी

भीषण गर्मी को देखते हुए स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने राज्य के सभी स्कूलों को बंद करने का आदेश जारी किया है। 15 जून तक सभी स्कूल बंद रहेंगे।

school holiday

School News: झारखंड में बढ़ती गर्मी और तापमान को देखते हुए राज्य सरकार ने सभी स्कूलों को बंद करने का ऐलान कर दिया है। 12 जून से 15 जून तक केजी से लेकर 12वीं तक के विद्यालय बंद रहेंगे। 4 दिनों तक प्राइवेट और शासकीय किसी भी स्कूल में कक्षाओं का आयोजन नहीं किया है। मंगलवार को स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने इस संबंध में आदेश भी जारी कर दिया है।

तत्काल प्रभाव से स्कूल लागू करें आदेश

15 जून के बाद सभी कक्षाएं अपने पूर्व निर्धारित समय पर संचालित होंगी। वहीं प्राइवेट स्कूलों का संचालन संबंधित विद्यालय के दिशा-निर्देश के अनुरूप आरटीआई अधिनियम एवं प्रबंधन के प्रवधानों के तहत क्लासेस संचालित होंगे। स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग ने तत्काल प्रभाव से प्रभारी सचिव का अनुमोदन प्राप्त आदेश लागू करने का निर्देश दिया है।

15 जून तक के जारी हुआ था नया टाइम-टेबल

बता दें कि 9 जून को ही शिक्षा विभाग ने गर्मी को देखते हुए स्कूलों के समय में बदलाव किया है। सभी सरकारी, गैर सरकारी सहायता प्राप्त/गैर सहायता प्राप्त और निजी विद्यालयों  को तत्काल प्रभाव से आदेश को लागू करने का निर्देश दिया गया था। नोटिस के मुताबिक 15 जून तक कक्षा केजी और 12वीं की कक्षाएं सुबह 7 बजे से 11:30 बजे तक संचालित किए जाने थे। लेकिन इससे पहले ही शासन ने अवकाश की घोषणा कर दी।

jharkhand school holiday

झारखंड में मौसम का हाल

झारखंड के कई जिलों में हिटवेब और लू को लेकर अलर्ट जारी किया गया है। उत्तर स्थित संथाल और पलामू जिले में अगले तीन दिन तक भीषण गर्मी होने का अंदाजा मौसम विभाग ने लगाया है। गढ़वा, सरायकेला, पूर्वी और पश्चिमी सिंहभूम आज हिटवेब दर्ज किया गया। जमशेदपुर का तापमान 44.4 डिग्री रहा। धनबाद, गुमला, हजारीबाग, गिरीडीह, कोडरमा, बोकारो, सिंदेगी, दुमका समेत कई जिलों में येलो अलर्ट जारी किया गया है। वहीं चतरा और लातेहार में ऑरेंज अलर्ट जारी किया गया है। रांची में मंगलवार को मौसम ठंडा रहा। कई जिलों में बारिश की आशंका भी है।

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है।अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"