UPSC EPFO Exam: यूपीएससी ने घोषित की परीक्षा की तारीख, 577 पदों पर होगी भर्ती, जानें एडमिट कार्ड का अपडेट

Manisha Kumari Pandey
Published on -

UPSC EPFO Exam 2023: यूनियन पब्लिक सर्विस कमीशन ने सोमवार को यूपीएससी ईपीएफओ परीक्षा की तारीख का ऐलान कर दिया है। आधिकारिक सूचना के मुताबिक परीक्षा का आयोजन 2 जुलाई, 2023 रविवार के दिन होगा। 79 केंद्रों पर एक शिफ्ट में एग्जाम आयोजित होंगें। सुबह 9:30 बजे से लेकर सुबह 11:30 बजे तक परीक्षा चलेगी। आधिकारिक अधिसूचना उम्मीदवार ऑफ़िशियल वेबसाइट पर जाकर देख सकते हैं।

इन पदों पर होगी नियुक्ति

परीक्षा का आयोजन ऑफलाइन मोड में होगा। इसके आधार पर 577 पदों पर उम्मीदवारों की भर्ती होगी। एम्प्लॉय प्रोविडेंट फंड ऑर्गनाइजेशन में इंफोर्समेंट ऑफिसर (EO ), अकाउंटस् ऑफिसर (AO) और असिस्टेंट प्रोविडेंट फंड कमिश्नर के पद पर चयनित कैंडीडेट्स की नियुक्ति होगी।

एडमिट कार्ड का अपडेट

यूपीएससी ने अब तक एडमिट कार्ड के लिए कोई भी निर्धारित तारीख घोषित नहीं है। लेकिन संभावनाएं हैं कि प्रवेश पत्र इस साल जून में जारी हो सकते हैं। उम्मीदवार अपने रजिस्ट्रेशन नंबर के जरिए आधिकारिक वेबसाइट पर विजिट कर प्रवेश पत्र डाउनलोड कर सकते हैं।

परीक्षा के बारे में

परीक्षा में 100 प्रश्न पूछे जाएंगे, जिसे पूरा करने के लिए 2 घंटे का समय दिया जाएंगे। प्रत्येक गलत उत्तर पर 1/3 अंक काटे जाएंगे। लिखित परीक्षा पास करने वाले उम्मेदवारों को इंटरव्यू के लिए बुलाया जाएगा। नीचे दिए गए स्टेप्स को फॉलो करके कैंडीडेट्स यूपीएससी ईपीएफओ परीक्षा का शेड्यूल डाउनलोड कर सकते हैं।

ऐसे चेक करें शेड्यूल

  1. सबसे पहले आधिकारिक वेबसाइट पर upsc.gov.in पर जाएं।
  2. होमपेज पर EPFO EO/AO और APFC परीक्षा शेड्यूल के लिंक पर क्लिक करें।
  3. परीक्षा के टाइम टेबल का पीडीएफ़ अलग पेज पर खुलेगा, इसे चेक करें और डाउनलोड करें।

 

 


About Author
Manisha Kumari Pandey

Manisha Kumari Pandey

पत्रकारिता जनकल्याण का माध्यम है। एक पत्रकार का काम नई जानकारी को उजागर करना और उस जानकारी को एक संदर्भ में रखना है। ताकि उस जानकारी का इस्तेमाल मानव की स्थिति को सुधारने में हो सकें। देश और दुनिया धीरे–धीरे बदल रही है। आधुनिक जनसंपर्क का विस्तार भी हो रहा है। लेकिन एक पत्रकार का किरदार वैसा ही जैसे आजादी के पहले था। समाज के मुद्दों को समाज तक पहुंचाना। स्वयं के लाभ को न देख सेवा को प्राथमिकता देना यही पत्रकारिता है। अच्छी पत्रकारिता बेहतर दुनिया बनाने की क्षमता रखती है। इसलिए भारतीय संविधान में पत्रकारिता को चौथा स्तंभ बताया गया है। हेनरी ल्यूस ने कहा है, " प्रकाशन एक व्यवसाय है, लेकिन पत्रकारिता कभी व्यवसाय नहीं थी और आज भी नहीं है और न ही यह कोई पेशा है।" पत्रकारिता समाजसेवा है और मुझे गर्व है कि "मैं एक पत्रकार हूं।"

Other Latest News