CG Weather: 2 नवंबर से गिरेगा पारा, बढ़ेगी ठंड, यहां वर्षा के आसार, जानें मौसम विभाग का पूर्वानुमान

उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं के प्रभाव से नवंबर में ठंड बढ़ेगी।  उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं के प्रभाव से बुधवार से न्यूनतम तापमान में और गिरावट आने वाली है।

cg weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। नवंबर से छत्तीसगढ़ के मौसम में बदलाव देखने को मिलेगा। उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं के प्रभाव से 2 नवंबर बुधवार तापमान में गिरावट दर्ज की जाएगी। छत्तीसगढ़ मौसम विभाग (Chhattisgarh Meteorological Department) की मानें तो आज मंगलवार को बस्तर संभाग के दक्षिणी छोर में एक दो स्थानों पर वर्षा होने की सम्भावना है । वही अन्य जिलों में मौसम शुष्क और आसमान साफ रहने के आसार है।

यह भी पढ़े..UP Weather: मौसम में फिर दिखेगा बदलाव, बढ़ेगी ठंड, छाएंगे बादल, बूंदाबांदी के भी आसार, पढ़े विभाग का पूर्वानुमान

छत्तीसगढ़ मौसम वैज्ञानिक डॉ. एचपी चंद्रा ने बताया कि आज मौसम के साफ रहने का अनुमान है। उत्तर से शुष्क- ठंडी हवाओं के साथ बंगाल की खाड़ी से नमी युक्त हवाएं ऊपरी और मध्य वायुमंडल में आने की प्रबल संभावना है।न्यूनतम तापमान में दक्षिण छग में 2 डिग्री सेल्सियस की वृद्धि दर्ज किया गया है। उत्तर छग में में वृद्धि का ट्रेंड तो है पर विशेष परिवर्तन नहीं हुआ है। आज भी स्थिति यही रहने की सम्भावना है। बस्तर संभाग के दक्षिणी छोर में एक दो स्थानों पर वर्षा होने की सम्भावना है ।

यह भी पढ़े..कर्मचारियों को फिर मिलेगा बड़ा तोहफा! नए साल में बेसिक सैलरी में वृद्धि संभव, 95000 तक बढ़ेगा वेतन

छत्तीसगढ़ मौसम विभाग के अनुसार,  उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं के प्रभाव से नवंबर में ठंड बढ़ेगी।  उत्तर से आने वाली ठंडी हवाओं के प्रभाव से बुधवार से न्यूनतम तापमान में और गिरावट आने वाली है। मंगलवार को अधिकतम तापमान स्थिर रहने व न्यूनतम तापमान एक-दो डिग्री बढ़ने के आसार है। नवबंर में कड़ाके की ठंड और शीतलहर का अनुमान है।

क्या कहता है मौसम विभाग

  • माह अक्टूबर के प्रथम पखवाड़े के दौरान दक्षिण-पश्चिम मानसून के पीछे हटने पर दिन के तापमान में बढ़त और रात में शीतलता बढ़ने लगती है । माह नवम्बर से मौसम सामान्यतः अच्छा मुख्यतः खुला आसमान या आंशिक मेघाच्छादित होता है ।
  • जैसे जैसे महिना आगे बढ़ता है दिन के तापमान मे भारी गिरावट आती है , सतही हवाएं सामान्यतः हल्की और उनका रूख उत्तरीय या उत्तर-पूर्वी हो जाता है ।इस माह की औसत वर्षा 9.8 मि.मी. तथा वर्षा के दिनों की औसत संख्या 0.7 है ।
  • अधिकांशतः पर्याप्त वर्षा चक्रवातीय तूफानों या अबदाव के कारण होती है जो बंगाल की खाड़ी या अरब सागर में उत्पन्न हो कर भूमि की ओर आती है ।
  • यह माह सामान्यतः गर्ज न के साथ तूफान की गतिविधियां से मुक्त रहता है और ओला तूफान की संभावना बहुत कम होती है । इस माह में औसत अधिकतम तापमान 30.2 डि.से. और औसत न्यूनतम तापमान 6.0 डि.से. रहता है ।