CG Weather: 20 जुलाई तक जारी रहेगा झमाझम का दौर, इन जिलों में गरज चमक के साथ भारी बारिश का अलर्ट, जानें शहरों का हाल

सोमवार को भी प्रदेश में कई जिलों में तेज से मध्यम बारिश के साथ बिजली गिरने और चमकने की चेतावनी है।

cg weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। सावन के पहले सोमवार को भी प्रदेश में झमाझम बारिश की झड़ी लगने वाली है।  छत्तीसगढ़ मौसम विभाग (CG Weather Department) ने आज सोमवार 18 जुलाई को प्रदेश के अधिकांश स्थानों पर हल्की से मध्यम बारिश होने के साथ अन्य क्षेत्रों में गरज चमक के साथ बौछार की सम्भावना है। वही प्रदेश में एक-दो स्थानों पर गरज चमक के साथ भारी वर्षा होने की सम्भावना है।वही बिलासपुर संभाग समते प्रदेश में 20 जुलाई तक तेज बारिश के संकेत है।

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों को कब मिलेगी 18 महीने के DA Arrear पर राहत, कब खाते में आएंगे पैसे? जानें ताजा अपडेट

सीजी मौसम विभाग (CG Weather Forecast) के अनुसार, निम्न दाब का क्षेत्र उत्तर ओड़िशा और उसके आसपास स्थित है। इसके साथ ऊपरी हवा का चक्रीय चक्रवाती घेरा 7.6 किमी. की ऊंचाई तक विस्तारित है। मानसून द्रोणिका उत्तर पूर्व अरब सागर- सौराष्ट्र तट, दिसा, रायसेन, अम्बिकापुर, निम्न दाब का केन्द्र, और उसके बाद दक्षिण पूर्व की ओर पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी तक 1.5 किमी ऊंचाई तक स्थित है।

सीजी मौसम विभाग (CG Weather Update) के अनुसार,सोमवार को भी प्रदेश में कई जिलों में तेज से मध्यम बारिश के साथ बिजली गिरने और चमकने की चेतावनी है। अगले 48 घंटे में हल्की से मध्यम बारिश के आसार है। कहीं-कहीं भारी बारिश हो सकती है। शिवनाथ किनारे बसे गांवों में भी अलर्ट जारी किया गया है। इधर, 9 सालों बाद धमतरी के गंगरेल बांघ के सभी 14 गेट खोल दिए गए है।अगले 24 घंटे भी तेज से भारी बारिश का येलो अलर्ट जारी किया है। सोमवार को भी बारिश की स्थिति ऐसी ही रही, तो सभी जलाशयों से पानी छोड़ने की स्थिति बन जाएगी।

यह भी पढ़े.. पेंशनरों को बड़ी राहत, पोर्टल पर ये सुविधा फिर शुरू, पेंशन में मिलेगा बड़ा लाभ

राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक एक जून 2022 से अब तक राज्य में 412.5 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में 01 जून से आज 17 जुलाई तक रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार बीजापुर जिले में सर्वाधिक 1030.1 मिमी और बलरामपुर जिले में सबसे कम 140.2 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गयी है। प्रदेश में पिछले दस वर्षों के आधार पर अब तक वर्षा का औसत 366.8 मि.मी. है।

अबतक बारिश का रिकॉर्ड

राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जून से अब तक सरगुजा में 157.2 मिमी, सूरजपुर में 226.3 मिमी, जशपुर में 167.9 मिमी, कोरिया में 245.3 मिमी, रायपुर में 279.3 मिमी, बलौदाबाजार में 398.7 मिमी, गरियाबंद में 492.9 मिमी, महासमुंद में 437.9 मिमी, धमतरी में 470.8 मिमी, बिलासपुर में 437.6 मिमी, मुंगेली में 477.0 मिमी, रायगढ़ में 369.0 मिमी, जांजगीर-चांपा में 502.1 मिमी, कोरबा में 318.7 मिमी, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 435.5 मिमी, दुर्ग में 389.6 मिमी, कबीरधाम में 397.4 मिमी, राजनांदगांव में 456.3 मिमी, बालोद में 539.9 मिमी, बेमेतरा में 308.3 मिमी, बस्तर में 517.5 मिमी, कोण्डागांव में 504.0 मिमी, कांकेर में 566.1 मिमी, नारायणपुर में 415.3 मिमी, दंतेवाड़ा में 464.7 मिमी और सुकमा में 403.7 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड की गई।

गंगरेल बांध के 14 गेट खोले

राज्य में लगातार हो रहे बारिश के चलते रविशंकर सागर जलाशय गंगरेल बांध में 93 प्रतिशत जलभराव हो चुका है। कार्यपालन अभियंता, जल संसाधन संभाग रूद्री  ए.के. पालड़िया ने बताया कि आज दोपहर तीन बजे बांध के 14 गेट खोलकर कुल 10 हजार क्यूसेक पानी छोड़ा जा रहा है। इसमें से 7800 क्यूसेक पानी रेडियल गेट के जरिए और 2200 क्यूसेक पानी 10 मेगावॉट बिजली निर्माण हेतु इलेक्ट्रिक बोर्ड के लिए छोड़ा गया है। उन्होंने बताया कि गंगरेल बांध के कैचमेंट एरिया से 37 हजार क्यूसेक पानी आ रहा है। धमतरी जिला प्रशासन द्वारा नदी के आसपास के 45 गांवों में पानी छोड़ने संबंधी मुनादी कर सतर्क किया गया है।