CG Weather: 2 दिन में एक्टिव होगा नया सिस्टम, बस्तर समेत इन जिलों में भारी बारिश का अलर्ट, जानें विभाग का पूर्वानुमान

दक्षिण छत्तीसगढ़ में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।एक जून से 4 अगस्त तक 64 दिनों में प्रदेश में 590.3 मिमी वर्षा हुई है, जो सामान्य से तीन प्रतिशत कम है। 

cg weather update

रायपुर, डेस्क रिपोर्ट। छत्तीसगढ़  में मानसून के दोबारा एक्टिव होने से बारिश का दौर फिर शुरू हो गया है। 7 अगस्त को एक नया सिस्टम बनने के भी आसार है। छत्तीसगढ़ मौसम विभाग (CG Weather Department) ने आज 5 अगस्त 2022 को बस्तर, दुर्ग समेत कई जिलों में गरज चमक के साथ मध्यम से भारी बारिश के चलते अलर्ट जारी किया है।वही कई स्थानों पर बारिश के साथ बिजली चमकने और गिरने को लेकर भी अलर्ट जारी किया गया है।

यह भी पढ़े.. MP: आज से भोपाल से चलेगी ये स्पेशल ट्रेन, भोपाल-हावड़ा एक्सप्रेस समेत इनके रूट बदले, 20 ट्रेनों में अतिरिक्त कोच, जानें शेड्यूल-रूट

सीजी मौसम विभाग (CG Weather Forecast) के अनुसार, मानसून द्रोणिका के साथ ही आने वाले एक से दो दिन में एक निम्न दबाव का क्षेत्र पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी के ऊपर बन रहा है। इसके चलते मौसम में बदलाव हो रहा है। मानसून द्रोणिका बीकानेर, शिवपुरी, जबलपुर, रायपुर होते हुए दक्षिण पूर्व की ओर पूर्व मध्य बंगाल की खाड़ी तक मध्य समुद्र तल पर स्थित है। एक निम्न दाब का क्षेत्र पश्चिम मध्य बंगाल की खाड़ी तक ऊपर 7 अगस्त तक बनने की संभावना है।
सीजी मौसम विभाग (CG Weather Alert) के अनुसार, आज शुक्रवार को प्रदेश भर में हल्की से मध्यम बारिश हो सकती है।इसके साथ ही बस्तर क्षेत्र में भारी से अति भारी वर्षा हो सकती है। प्रदेश के कुछ क्षेत्रों में बिजली गिरने की चेतावनी जारी की गई है।वही दक्षिण छत्तीसगढ़ में भारी से अति भारी बारिश की चेतावनी जारी की गई है।एक जून से 4 अगस्त तक 64 दिनों में प्रदेश में 590.3 मिमी वर्षा हुई है, जो सामान्य से तीन प्रतिशत कम है।

 

यह भी पढ़े.. कर्मचारियों-पेंशनरों का इंतजार जल्द होगा खत्म! 18 महीने के डीए एरियर पर अपडेट, जानें कब मिलेगा लाभ?

राज्य शासन के राजस्व एवं आपदा प्रबंधन विभाग द्वारा बनाए गए राज्य स्तरीय नियंत्रण कक्ष द्वारा संकलित जानकारी के मुताबिक एक जून 2022 से अब तक राज्य में 583.9 मिमी औसत वर्षा दर्ज की जा चुकी है। राज्य के विभिन्न जिलों में 01 जून से आज चार अगस्त तक रिकार्ड की गई वर्षा के अनुसार बीजापुर जिले में सर्वाधिक 1464.4 मिमी और सरगुजा में जिले में सबसे कम 258.1 मिमी औसत वर्षा दर्ज की गयी है।

अब तक 583.9 मि.मी. औसत वर्षा दर्ज

राज्य स्तरीय बाढ़ नियंत्रण कक्ष से प्राप्त जानकारी के अनुसार एक जून से अब तक सूरजपुर में 341.1 मिमी, बलरामपुर में 273.5 मिमी, जशपुर में 330.1 मिमी, कोरिया में 355.1 मिमी, रायपुर में 389.9 मिमी, बलौदाबाजार में 552.5 मिमी, गरियाबंद में 646.8 मिमी, महासमुंद में 564.8 मिमी, धमतरी में 677.0 मिमी, बिलासपुर में 624.2 मिमी, मुंगेली में 628.9 मिमी, रायगढ़ में 536.0 मिमी, जांजगीर-चांपा में 680.9 मिमी, कोरबा में 449.8 मिमी, गौरेला-पेण्ड्रा-मरवाही में 559.5 मिमी, दुर्ग में 530.7 मिमी, कबीरधाम में 562.6 मिमी, राजनांदगांव में 605.2 मिमी, बालोद में 688.5 मिमी, बेमेतरा में 389.6 मिमी, बस्तर में 789.9 मिमी, कोण्डागांव में 665.1 मिमी, कांकेर में 792.1 मिमी, नारायणपुर में 633.1 मिमी, दंतेवाड़ा में 806.6 मिमी और सुकमा में 552.7 मिमी औसत वर्षा रिकार्ड की गई।

120 गांंवों पर सूखे का खतरा

छत्तीसगढ़ के बिलासपुर संभाग में कम बरसात के चलते सूखे के हालात बनने लगे है। खूंटाघाट बांध में 83% ,घोंघा जलाशय में 58.52 % और अरपा भैंसाझार में 31% ही भरा है, यही हाल अन्य का है। जबकि, पिछले साल अगस्त के पहले सप्ताह में ही बांध लबालब हो गए थे। कम बारिश के चलते 120 गांव पर सिंचाई का संकट मंंडराने लगा है।