रायपुर पुलिस ने कैसे किया कालीचरण को गिरफ्तार, जानिए मिनट to मिनट कहानी

छतरपुर, डेस्क रिपोर्ट। राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में अपशब्द के सुर्खियों में आया कालीचरण बाबा आखिर पुलिस के शिकंजे में फंस ही गया। रायपुर पुलिस ने बाबा की लगातार रेकी की और अंततः उसे खजुराहो के पास से गिरफ्तार कर लिया।

यह भी पढ़े.. CM शिवराज सिंह चौहान ने प्रदेश के कलेक्टर-कमिश्नर को बैठक में दिए निर्देश, सतर्क रहे, युद्धस्तर पर करें तैयारी

रायपुर की धर्म संसद में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के बारे में अपशब्द कहने वाला कालीचरण बाबा 27 दिसंबर को शाम 5 बजे एक ट्रेन से खजुराहो स्टेशन पर उतरा। इसके बाद बाबा सीधा पास ही स्थित पल्लवी गेस्ट हाउस गया और वहां जाकर उसने खाना खाया। वहां से खाना खाने के बाद बाबा गड़ा गांव स्थित बागेश्वर धाम के लिए रवाना हुआ। बागेश्वर धाम पहुंचकर बाबा ने बागेश्वर धाम होमस्टे नाम की जगह पर कमरा नंबर 109 बुक कराया और वहां ठहर गया। बाबा के साथ एक व्यक्ति और था।बाबा ने कमरा राजू के नाम से बुक कराया था। इसके बाद बाबा बागेश्वर धाम गया। वहां उसने दर्शन किए और वापस अपने कमरे में आ गया। बताया गया है कि बाबा का पीछा पहले से रायपुर पुलिस कर रही थी।

यह भी पढ़े.. अभिनेत्री नोरा फतेही भी कोरोना पाज़िटिव, फैंस को पोस्ट शेयर कर बताया

बाबा के पीछे पीछे रायपुर के दो पुलिस वालों ने भी कमरा नंबर 110 में अपना रूम बुक कराया था। इसके बाद वे लोग लगातार इंतजार करते रहे और रायपुर पुलिस को सूचना दे दी। रात के 1.30 बजे पुलिस ने धावा बोल दिया और बाबा को पकड़ लिया। बताया गया है कि उस समय कमरे में बाबा के साथ दो अन्य लोग भी थे यानी कुल मिलाकर बाबा सहित चार लोग थे। लेकिन उन दो लोगों के बारे में पता नहीं चल पाया है। 4 बजे तक पुलिस ने अपनी कार्रवाई पूरी की और बाबा को वाहन में बिठाकर रायपुर के लिए रवाना हो गए। हैरत की बात यह रही कि स्थानीय पुलिस को इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई कि बाबा यहां रुका हुआ है और रायपुर की पुलिस भी रुकी हुई है।