महिला मरीजों ने किया खाने का बहिष्कार, कहा, यहाँ रहे तो और बीमार हो जायेंगे, छुट्टी कर दो

ग्वालियर,अतुल सक्सेना । कोरोना पॉजिटिव मरीजों की देखभाल और अच्छे इलाज के लिये बनाये गए अस्पताल और क्वारेंटाइन सेंटर ही उन्हें बीमार करने लगे हैं। जिसके कारण मरीज परेशान हैं। आयुर्वेदिक कॉलेज के अस्पताल में भर्ती मरीजों का आरोप है कि यहाँ दिया जा रहा खाना उन्हें बीमार कर रहा है। हमारी कोई सुनने वाला नहीं हैं। आठ दिन में ना कोई डॉक्टर देखने आया और ना कोई सेम्पल लिया गया। इससे अच्छा तो हमारी छुट्टी कर दीजिये यहाँ रखने का का फायदा ।

ग्वालियर के आयुर्वेदिक अस्पताल में करीब 40 कोरोना पॉजिटिव मरीजों को भर्ती किया गया है इसमें महिला एवं पुरुष दोनों शामिल हैं। यहाँ भर्ती महिलाओं ने अस्पताल की अव्यवस्थाओं के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। महिलाओं का आरोप है कि यहाँ के वॉश रूम में ना साफ सफाई होती है ना ढंग का खाना मिलता है। यहाँ भर्ती एक मरीज ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो शेयर कर खाने के क्वालिटी और अव्यवस्थाओं की पोल खोली है।

एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ से बात करते हुए महिला मरीज ने कहा कि वो पिछले आठ दिन से यहाँ भर्ती है लेकिन इन आठ दिनों में ना तो कोई डॉक्टर हमारा चेक अप करने आया, ना हमें हमारी पॉजिटिव रिपोर्ट दिखाई गई और ना ही हमारा सेकंड सेम्पल लिया गया। ऐसा ही हाल सभी मरीजों का है। मरीज ने बताया कि खाने की क्वालिटी बहुत घटिया है। पिछले कई दिनों से बटरा(मटरा) की डाल दी रही है और वो भी बहुत गाड़ी, इतनी जमी हुई जैसे फ्रिज में रखी हुई हो, ये दाल खाकर सभी को गैस की शिकायत हो गई है।

सब्जी में भी रोज कद्दू खिला रहे हैं लेकिन अस्पताल की इंचार्ज शिकायत के बाद भी एक्शन नहीं लेती। आज रविवार को भी यही खाना आया, जब विरोध किया तो कैदियों की तरह ताला लगाकर खाना देने वाला थालियां जमीन पर रखकर चला गया। सुनवाई नहीं होने से नाराज महिलाओं ने खाने का बहिष्कार कर उसे डस्टबिन में फेंक दिया और भूखा रहने का संकल्प लिया। महिला मरीजों ने कलेक्टर से गुहार लगाते हुए कहा कि हमारा जब इलाज ठीक से नहीं हो रहा, खाना सही नहीं मिल रहा तो हमें यहाँ क्यों रखा गया है, हमें हमारे घर ही भेज दीजिये, हमारी छुट्टी कर दीजिये।