कर्मचारियों के लिए बड़ी खबर, AICPI के आंकड़ों ने दी राहत, बढ़ेगा 3 फ़ीसदी DA! 8वें वेतन आयोग पर बड़ी अपडेट

यह सातवां वर्ष है जब आप सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन प्राप्त कर रहे हैं। वेतन संशोधन 10 वर्षों में एक बार होता है।

7th cpcss

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। 7th Pay Commission केंद्रीय कर्मचारियों (Central government) के लिए बड़ी अपडेट सामने आई है। जानकारी की माने तो इस बार केंद्रीय कर्मचारियों का महंगाई भत्ता (DA Hike) जून या जुलाई महीने में बढ़ाया जाएगा।AICPI बढ़ने से जून या जुलाई में महंगाई भत्ते में 3 फीसद की बढ़ोतरी मानी जा रही है। जिसके बाद कर्मचारियों का DA बढ़कर 37 फीसद हो जाएगा।

मार्च 2022 के लिए, अखिल भारतीय सीपीआई-आईडब्ल्यू (AICPI-IW) 1.0 अंक बढ़कर 126.0 हो गया है। 30 अप्रैल को इसके आंकड़े जारी किये गए हैं। एक महीने के प्रतिशत परिवर्तन के आधार पर, इसमें पिछले महीने की तुलना में 0.80% की वृद्धि हुई थी जबकि एक साल पहले समान महीनों के बीच 0.50 प्रतिशत की वृद्धि हुई थी।

श्रम और रोजगार मंत्रालय के तहत श्रम ब्यूरो हर महीने देश भर के 88 औद्योगिक रूप से महत्वपूर्ण केंद्रों में 317 बाजारों से एकत्रित खुदरा कीमतों के आधार पर औद्योगिक श्रमिकों के लिए उपभोक्ता मूल्य सूचकांक का संकलन करता है। यह सूचकांक 88 शहरों और संपूर्ण भारत के लिए संकलित किया गया है, और इसे प्रत्येक माह के अंतिम कार्य दिवस पर प्रकाशित किया जाता है। इस प्रेस विज्ञप्ति में वर्ष 2022 में मार्च महीने का सूचकांक शामिल है।

अखिल भारतीय सीपीआई-आईडब्ल्यू नंबरों को केंद्र सरकार के कर्मचारियों द्वारा उत्सुकता से देखा जाता है क्योंकि अगली महंगाई भत्ता (डीए) वृद्धि इन्हीं आंकड़ों पर आधारित है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के लिए महंगाई भत्ते की गणना 12 महीने के औसत CPI-IW सूचकांक के आधार पर की जाती है।

Read More : राजधानी भोपाल को जल्द मिलेगी बड़ी सौगात, 8 लाख लोगों को होगा लाभ, 35 करोड़ की लागत से तैयार होगी परियोजना

जुलाई 2022 से महंगाई भत्ते की गणना के लिए तीन और महीनों यानी अप्रैल 2022, मई 2022 और जून 2022 के सूचकांकों की आवश्यकता है। इस तथ्य के बावजूद कि तीन और आंकड़ों की आवश्यकता है, यह गणना की जा सकती है कि डी.ए. जुलाई से 37 फीसदी हो जाएगा। इसी तरह हर महीने एक अंक की वृद्धि डीए को 38 फीसदी तक ले जा सकती है।

केंद्र सरकार द्वारा साल में दो बार केंद्रीय कर्मचारियों के महंगाई भत्ते में वृद्धि की जाती है पहली वृद्धि जनवरी से जून और दूसरी वृद्धि जुलाई से दिसंबर तक के लिए होती है वही एआईसीपीआई के आंकड़े दिए वृद्धि में मदद करते हैं 30 अप्रैल को AICPI Index के आंकड़े पेश किए गए हैं जिसमें 1 अंक की वृद्धि देखी गई है इसके बाद कर्मचारियों को बढ़ना तय माना जा रहा है।

बता दें कि इससे पहले जनवरी 2022 में 0.3 अंकों की गिरावट देखी गई थी। जिसके बाद एआईसीपीआई का आंकड़ा 125.1 माह गया था। फरवरी में भी इसमें 0.1 अंक की गिरावट आई थी। ऐसे में अब आंकड़े में 1 अंक का बढ़ना कर्मचारियों के लिए शुभ संकेत है। वही अप्रैल मई और जून के आंकड़े आने के बाद AICPI में सुधार तय होगा। वहीं यदि 124 से बढ़कर 125 पहुंच जाता है तो कर्मचारियों के डीए में वृद्धि निश्चित है।

Read More : IMD Alert : 2 मई से एक्टिव होगा पश्चिमी विक्षोभ, 12 राज्यों में 6 मई तक बारिश का अलर्ट, 7 में हीटवेव का अलर्ट

वेतन आयोग प्रणाली Update

यह सातवां वर्ष है जब आप सातवें वेतन आयोग के अनुसार वेतन प्राप्त कर रहे हैं। वेतन संशोधन 10 वर्षों में एक बार होता है। अगला वेतन संशोधन 1 जनवरी 2026 से लागू होने की सबसे अधिक संभावना है। 8वें वेतन आयोग के गठन की जल्द ही उम्मीद की जा सकती है। अगले वेतन परिवर्तन को लागू करने से पहले, समिति को वेतन संशोधन के विभिन्न पहलुओं पर विस्तृत अध्ययन करने की आवश्यकता है। सबसे अहम सवाल यह है कि वेतन वृद्धि कितनी होगी।

हालांकि, चर्चा यह भी है कि भविष्य में वेतन आयोग प्रणाली को चरणबद्ध तरीके से समाप्त किया जा सकता है और यह कि नई प्रणाली पूरी तरह से स्वचालित और डेटा-संचालित होगी। इसमें मुद्रास्फीति के आंकड़ों पर आधारित वेतन वृद्धि शामिल है।

वेतन आयोग केंद्रीय सरकार के कर्मचारियों के वेतन को संशोधित करने, अर्थव्यवस्था में मुद्रास्फीति के प्रभाव और अन्य संबंधित मापदंडों को ध्यान में रखते हुए जिम्मेदार है। केंद्रीय वेतन आयोग 1947 से केंद्र सरकार के कर्मचारियों के वेतन ढांचे में बदलाव के पीछे प्रेरक शक्ति रहा है। केंद्र सरकार के कर्मचारियों के रूप में, आपको वेतन आयोग के फैसलों से परिचित होना चाहिए। इन फैसलों का सीधा असर कमाई पर पड़ता है। वेतन आयोग के अहम फैसलों का असर सरकारी खजाने पर भी पड़ता है.

सातवें वेतन आयोग के अध्यक्ष ने अपनी अंतिम रिपोर्ट में कहा था कि पिछले दस वर्षों में मुद्रास्फीति की गणना के लिए प्रसिद्ध आयक्रोयड फॉर्मूला का इस्तेमाल किया गया था। यदि केंद्र अपनी प्रदर्शन-आधारित वेतन पुनर्गठन योजना को लागू करता है तो भविष्य में इस फॉर्मूले का उपयोग किया जाएगा।

अकरोयड, वालेस रुडेल

पहले, सातवें वेतन आयोग तक स्वचालित वेतन प्रणाली के तहत, सरकार केवल केंद्र सरकार के कर्मचारियों के वेतन में संशोधन करेगी यदि महंगाई भत्ते में 50% से अधिक की वृद्धि हुई हो। Aykroyd फॉर्मूला केंद्र को उनके पारिश्रमिक का निर्धारण करते समय inflation और केंद्रीय कर्मचारियों के प्रदर्शन को ध्यान में रखने में सहायता करेगा। यह एक उचित पारिश्रमिक पैकेज पर पहुंचेगा जो जीवन की सभी बुनियादी जरूरतों को एक आरामदायक तरीके से पूरा करता है।

Aykroyd सूत्र वास्तव में क्या है?

सूत्र का नाम प्रसिद्ध पोषण विशेषज्ञ वालेस रुडेल एक्रोयड और एफएओ (खाद्य और कृषि संगठन) पोषण विभाग के पहले निदेशक के नाम पर रखा गया है। जिनकी सिफारिशें देश के लोगों के भोजन और कपड़ों की जरूरतों पर आधारित थीं। यह सूत्र उन वस्तुओं की कीमतों में बदलाव को संभाल सकता है जो औसत व्यक्ति के लिए महत्वपूर्ण हैं और भविष्य में उन्हें प्रभावित करने की संभावना है। अन्य महत्वपूर्ण कारकों और allowance को ध्यान में रखते हुए सातवें वेतन आयोग में लागू किए गए एक्रोयड फॉर्मूले के अनुसार, केंद्र सरकार के कर्मचारी के लिए न्यूनतम मासिक भुगतान शुरुआती स्तर पर लगभग 18,000 रुपये होगा।