कर्मचारियों को जल्द मिलेगा तोहफा, वेतन में 3.68 फीसद की दर से होगी वृद्धि, खाते में सलाना बढ़ेंगे 96000 रुपए

संबंधित मामले में उच्च अधिकारियों से विभागीय राय भी ली जा चुकी है।

cpcc

नई दिल्ली, डेस्क रिपोर्ट। एक तरफ जहां 7th pay commission केंद्रीय कर्मचारियों (Employees) के महंगाई भत्ते (DA Hike) में मोदी सरकार द्वारा चार फीसद की भारी बढ़ोतरी की गई है। वहीं दूसरी तरफ इस साल के अंत तक उन्हें वेतन वृद्धि (Salary increment) का लाभ दिया जा सकता है। इसकी तैयारी की जा रही है। माना जा रहा है कि सरकार कर्मचारियों के बेसिक सैलरी (Basic salary) में इजाफा कर सकती है। मीडिया रिपोर्ट की माने तो दिवाली के अंत या इस साल के अंत में फिटमेंट फैक्टर (fitment factor) में वृद्धि का लाभ मिल सकता है। बेसिक सैलरी बढ़ने से उनके खाते में 96000 रूपए तक की वृद्धि होगी।

दरअसल 8 वीं वेतन आयोग को लेकर अभी एक बार फिर से चर्चा थम गई है। वहीं अक्टूबर के अंत तक या नवंबर के दूसरे सप्ताह तक बेसिक सैलरी 18000 रूपए से बढ़कर 26000 रूपए की जा सकती है। फिटमेंट फैक्टर में होने वाली वृद्धि 8000 रूपए तक देखी जा रही है। सूत्रों की माने तो संबंधित मामले में उच्च अधिकारियों से विभागीय राय भी ली जा चुकी है। इसको लेकर आधिकारिक घोषणा नहीं की गई है।

Read More : साहित्यिकी : आइये पढ़ें माखनलाल चतुर्वेदी की कुछ प्रसिद्ध कविताएं

बता दें कि अभी केंद्रीय कर्मचारियों को बेसिक सैलरी के रूप में 18000 उपलब्ध कराए जाते हैं, वर्तमान में उनका फिटमेंट फैक्टर 2.57 की दर से तैयार किया जा रहा ।है यदि फिटमेंट फैक्टर में वृद्धि होती है तो यह बढ़कर 3.68 फीसद हो जाएगा। ऐसा होने की स्थिति में कर्मचारियों के बेसिक सैलरी 18000 रूपए से 8000 रूपए अतिरिक्त बढ़कर 26000 रूपए हो जाएंगे। जिससे उनके खाते में 96000 रूपए तक की बढ़त देखने को मिलेगी।

के सरकारी कर्मचारियों को मिलने वाले बेसिक वेतन के निर्धारण को फिटमेंट फैक्टर कहते हैं।कर्मचारियों को मिलने वाली सैलरी पूरी तरह से इस पर निर्भर रहती है। आखिरी बार 2016 में फिटमेंट फैक्टर में बढ़ोतरी की गई थी और इसी साल सातवें वेतन आयोग को भी लागू किया गया था। हालांकि आठवां वेतन आयोग 2024 में लागू किया जा सकता है। इससे पहले फिटमेंट फैक्टर में एक बार फिर से वृद्धि देखी जा सकती है। 2016 में एंट्री लेवल बेसिक पे 7000 रूपए की दर से बढ़ाया गया था, जिसके बाद कर्मचारियों को 18000 रूपए बेसिक सैलरी के रूप में उपलब्ध कराई जाती है।