MP शिक्षकों को जल्द मिलेगा क्रमोन्नति, अवकाश नकदीकरण सहित बकाया DA का भुगतान, मंत्रालय में हुई बैठक, जाने नई अपडेट

साथ ही वेतन विसंगति दूर कर सहायक शिक्षक, शिक्षक और व्याख्याता संवर्ग को तीसरे का मूर्ति सम्मान योजना की विसंगति दूर की जाए।

bhel employee bonus

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट मध्य प्रदेश के शिक्षकों (MP Teachers)-7th pay employees-शिक्षक को जल्द डीए का भुगतान (DA Payment) किया जाएगा। इसके अलावा 35 वर्ष की सेवा पर शिक्षकों को चतुर्थ वेतनमान (fourth pay scale) पर जल्द फैसला लिया जाएगा। दरअसल इसका निर्णय शिक्षकों के प्रदेश व्यापी लंबित समस्याओं के निराकरण के लिए बैठक में हुआ।

दरअसल बैठक में सहायक शिक्षक, शिक्षक, प्रधान, पाठक, व्याख्याता सहित प्राचार्य को गृह विभाग की तर्ज पर पदोन्नति पदनाम देने सहित प्रतिवर्ष 30 दिन अर्जित अवकाश की पात्रता देने और स्वीकृति के आधार DEO को देने संबंधित मांग भी की गई है। इतना ही नहीं शिक्षकों की मांग है कि सेवानिवृत्त शिक्षकों के अवकाश नकदीकरण के लंबित मामलों के स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी किए जाएं।

Read More : IMD Alert : मानसून के दस्तक में होगी देरी, 20 राज्य में बारिश का अलर्ट, गर्मी से मिलेगी राहत, जून में बढ़ेगा तापमान

साथ ही वेतन विसंगति दूर कर सहायक शिक्षक, शिक्षक और व्याख्याता संवर्ग को तीसरे का मूर्ति सम्मान योजना की विसंगति दूर की जाए। मध्य प्रदेश कर्मचारी कल्याण समिति की अध्यक्षता में हुई बैठक में सहायक शिक्षक व्याख्याता संवर्ग की क्रमोन्नति सम्मान योजना की विसंगति दूर करने सेवानिवृत्त शिक्षकों को बकाया भुगतान कर्मचारियों को पेंशन योजना लागू करने की मांग की गई। इसके अलावा पुरानी पेंशन योजना लागू करने, नवीन संवर्ग की रोकी क्रमोन्नति बहाल करने सहित सातवें वेतनमान के अनुसार गृह भाड़ा देने और बीमा कटौती पर भी मांग की गई है।

मध्यप्रदेश में शिक्षक कर्मचारी के लिए जल्द जारी स्वास्थ्य बीमा योजना लागू करने, 30 जून को सेवानिवृत होने वाले शिक्षक कर्मचारियों को एक वेतन वृद्धि का लाभ देने सहित दिवंगत शिक्षकों के आश्रित परिजनों को बिना शर्त अनुकंपा नियुक्ति देने जैसे एक दर्जन से अधिक मांगे रखी गई है। वही बैठक में रमेश चंद शर्मा अध्यक्ष राज्य मंत्री दर्जा मध्य प्रदेश कर्मचारी कल्याण समिति की अध्यक्षता में हुई बैठक में विभिन्न मांगों पर विचार किया गया वहीं मांगों पर जल्द ही फैसले लिए जाने की बात कही गई है।