वेतन में 41% की वृद्धि के बाद सरकार ने लिया बड़ा फैसला, स्थायी कर्मचारियों को लगा झटका

MSRTC Employees: MSRTC ने अब तक 3,215 स्थायी कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है

कर्मचारियों

मुंबई, डेस्क रिपोर्ट। MSRTC द्वारा अब तक 1,226 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों (Employees) को बर्खास्त (dismissed)  कर दिया गया है। जिसमें 500 श्रमिकों को शुक्रवार को ड्यूटी पर नहीं आने के कारण बर्खास्त कर दिया गया है। एक दिन पहले MSRTC के कर्मचारी 28 अक्टूबर से हड़ताल पर हैं और नकदी की कमी से जूझ रहे इस निगम का राज्य सरकार में विलय करने की मांग कर रहे हैं। हड़ताल ने राज्य द्वारा संचालित बस सेवा को व्यावहारिक रूप से पंगु बना दिया है।

मंत्री ने कहा आज हमने 500 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की सेवाओं को समाप्त करने का निर्णय लिया है। जिनके लिए प्रतिदिन ड्यूटी पर रिपोर्ट करना आवश्यक है। अधिकारियों के अनुसार, महाराष्ट्र राज्य सड़क परिवहन निगम (MSRTC) ने अब तक 3,215 स्थायी कर्मचारियों को निलंबित कर दिया है और 1,226 दैनिक वेतन भोगी कर्मचारियों की सेवाएं समाप्त कर दी हैं।

हालांकि, मंत्री ने कहा कि सरकार द्वारा इस सप्ताह की शुरुआत में वेतन वृद्धि की घोषणा के बाद कई कर्मचारियों ने ड्यूटी में शामिल होने की इच्छा व्यक्त की है। परब ने कहा कुछ कर्मचारियों ने कल तक का समय मांगा है क्योंकि वे ड्यूटी में शामिल होने के इच्छुक हैं। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों के भीतर स्थिति में काफी सुधार होगा।

Read More: MP School: सीएम राइज स्कूलों को लेकर आई नई चुनौती, शिक्षकों को साबित करनी होगी उपयोगिता

एमएसआरटीसी कर्मचारियों को दोबारा ड्यूटी पर आने के लिए एक दिन और दे सकता है, लेकिन समय सीमा को बार-बार टाला नहीं जा सकता है। हड़ताल के दौरान कोई और विचार-विमर्श नहीं होगा, मंत्री ने कहा, यह कहते हुए कि आंदोलन निगम, कर्मचारियों और यात्रियों के लिए हानिकारक है।रिवहन मंत्री अनिल परब ने कर्मचारियों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की चेतावनी दी थी, जो वर्तमान में एक महीने की हड़ताल पर हैं, अगर वे ड्यूटी पर दोबारा शामिल नहीं होते हैं।

परब ने चेतावनी दी, “अगर कर्मचारी हड़ताल जारी रखने पर अड़े हैं, तो सरकार को वेतन वृद्धि देने के फैसले की समीक्षा करनी होगी।” कर्मचारियों के मूल वेतन में 2,500 से 5,000 की बढ़ोतरी की घोषणा की गई है, जिसे मंत्री “इतिहास में सबसे अधिक” होने का दावा करते हैं। परब ने हालांकि शुक्रवार को बैठक के दौरान यूनियन नेताओं को आश्वासन दिया कि हड़ताल खत्म होने के बाद वेतन वृद्धि में विसंगतियों पर चर्चा की जाएगी.

उन्होंने आश्वासन दिया किसी भी कर्मचारी के साथ अन्याय नहीं होगा या किसी कनिष्ठ कर्मचारी को वरिष्ठों से अधिक वेतन नहीं मिलेगा। उन्होंने कहा कि सातवां वेतन आयोग लागू करने और चार साल के बजाय 10 साल के लिए समझौते पर हस्ताक्षर करने की मांग उठाई गई। मंत्री ने कहा मैं इन सभी मुद्दों पर चर्चा के लिए तैयार हूं। लेकिन वित्तीय बोझ को वहन करना और बस सेवाओं को बंद रखना संभव नहीं होगा।

सेवाएं आंशिक रूप से फिर से शुरू

इस बीच, मुंबई सेंट्रल, ठाणे, परेल, कल्याण, सांगली, वसई, राजापुर और पेन सहित 250 बस डिपो में से 37 पर सेवाएं आंशिक रूप से फिर से शुरू हो गई हैं। MSRTC शाम 5 बजे तक विभिन्न मार्गों पर 428 सामान्य सहित 591 बसें संचालित करने में सफल रही। इनमें से सबसे ज्यादा 276 बसों का संचालन सांगली डिपो से हुआ। 92,266 कर्मचारियों में से 11,549, कुल कर्मचारियों का लगभग 12.5 प्रतिशत, शुक्रवार को ड्यूटी में शामिल हुए, जिनमें 594 ड्राइवर और 433 कंडक्टर शामिल थे।