खरगोन में तीसरे दिन भी कर्फ्यू जारी, अलर्ट पर मप्र के सभी जिले, गृह मंत्री का बड़ा बयान

आगामी दिनों में कई पर्व आ रहे हैं। इसे देखते हुए मध्य प्रदेश के सभी जिले अलर्ट मोड़ पर हैं।

narottam mishra

भोपाल, डेस्क रिपोर्ट।MP News Today.एक तरफ हिंसा और पथराव के बाद खरगोन में तीसरे दिन भी कर्फ्यू (Khargone Curfew) लागू है, वही मौके पर भारी पुलिस बल तैनात किया गया है वही दूसरी तरफ  सीएम शिवराज सिंह चौहान की कानून व्यवस्था को लेकर मंगलवार को हुई हाई लेवल मीटिंग के बाद मध्य प्रदेश के सभी जिले अलर्ट मोड पर है।सीएम ने मंत्रियो को अपने अपने प्रभार जिलों की स्थितियां का जायजा लेने को कहा है।

यह भी पढ़े.. VIDEO: दिग्विजय सिंह का बड़ा बयान- 1 नहीं, एक लाख FIR दर्ज करें, मुझे डर नहीं

आज मीडिया से चर्चा करते हुए गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा (Home Minister Narottam Mishra) ने कहा कि आगामी दिनों में कई पर्व आ रहे हैं। इसे देखते हुए मध्य प्रदेश के सभी जिले अलर्ट मोड़ पर हैं। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान जी ने एहतियातन सभी सम्मानित मंत्रियों को अपने-अपने प्रभार के जिलों में व्यवस्थाओं पर नजर रखने के निर्देश दिए हैं और परिस्थतियों के हिसाब से चर्चा करने के कहा है।

गृह मंत्री नरोत्तम मिश्रा ने कहा कि खरगोन में जिला प्रशासन स्थानीय परिस्थितियों का आंकलन कर कर्फ्यू में ढील पर फैसला करेगा।  खरगोन से पलायन की खबरें असत्य और भ्रामक हैं।डर के साए में प्रदेश में न कहीं पलायन हुआ है,न हम कहीं ऐसा होने देंगे।70 लोग अभी तक जेल जा चुके है और 20 लोगों से अब भी पूछताछ चल रही है। कोई मकान बिकाऊ नहीं है और जिले से कोई पलायन नहीं हो रहा है।

तीसरे दिन कर्फ्यू जारी

खरगोन में तीसरे दिन भी कर्फ्यू जारी है, फिलहाल कर्फ्य़ू में कोई छूट नहीं दी गई है। खरगोन प्रशासन की ओर से कहा गया है कि कर्फ़्यू में किसी भी प्रकार की कोई छूट नही दी गई है। आप सब घरों में रहकर कर्फ़्यू का पालन करें। छूट को लेकर पृथक से सूचना दी जाएगी।शहर कानून व्यवस्था बनाएं रखने के लिए कार्यपालिक दंडाधिकारियों को नियुक्त किया गया है। 10 अप्रैल को शहर में श्रीराम नवमी पर्व पर जुलुस के दौरान हुई आगजनी व पत्थरबाजी की घटना के कारण साम्प्रदायिक तनाव की स्थिति निर्मित हुई।

पलायन की खबर का खंडन

वही खरगोन एसडीएम (Khargone SDM) मिलिंद ढोके ने बताया कि किसी समाचार पत्र में 100 से ज्यादा परिवारों द्वारा दो दिन में खरगोन शहर के अलग अलग इलाकों से दशहत के कारण अपना घर छोड़कर रिश्तेदारों के यहां शरण लेने की खबर तथ्यात्मक ठीक नहीं है।रामनवमी पर हुए पथराव के बाद ऐसे लोग या परिवार जिनके घर आगजनी के कारण प्रभावित हुए है। वे अपने रिश्तेदारों के घर गए है। जिनकी संख्या 2 से 3 है।