Balaghat EOW Raid : करोड़ों का आसामी निकला विद्युत विभाग का सहायक यंत्री, 12 प्लॉट, 6 मकान सहित करोड़ों की संपत्ति उजागर

जांच के बाद आय की तुलना में 280 प्रतिशत संपत्ति अर्जित करने करने के प्रमाण ईओडब्ल्यु की टीम को मिले है।

बालाघाट, सुनील कोरे। वर्ष 2018 में सिवनी विद्युत विभाग से रिटायर्ड हुए दिनेश प्रजापति और पत्नी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति की आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ जबलपुर (jabalpur EOW) में एक शिकायत हुई थी। जिसमें जांच के बाद ईओडब्ल्यु भोपाल में दिनेश प्रजापति और उनकी पत्नी के खिलाफ आय से अधिक संपत्ति (disproportionate assets) का मामला कायम कर आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ डीएसपी मनजीतसिंह के नेतृत्व में ईओडब्लयु (Balaghat EOW raid) की टीम ने गत दिवस बालाघाट के विशेष न्यायालय से वारंट हासिल कर 5 अगस्त की सुबह उनके भटेरा चौकी स्थित सेंटमेरी स्कूल के पीछे घर पर दबिश दी।

जहां जांच में रिटायर्ड सहायक यंत्री एवं उनकी पत्नी के नाम से करोड़ो की संपत्ति में चार आलीशान मकान सहित 6 मकान और लगभग 12 प्लाट मिले है। वहीं नगद और बैंकों एवं अन्य निवेश की जानकारी मिलने की बात भी कही जा रही है। बताया जाता है कि आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ के पास रिटायर्ड सहायक यंत्री दयाशंकर प्रजापति और पत्नी द्वारा आय से अधिक संपत्ति के साथ ही सतपुड़ा लिजिंग एंड फायनेंस कंपनी के माध्यम से बड़ी मात्रा में जमीनों की खरीदी एवं बिक्री करने की जानकारी थी।

जिसमें जांच के बाद आय की तुलना में 280 प्रतिशत संपत्ति अर्जित करने करने के प्रमाण ईओडब्ल्यु की टीम को मिले है। ईओडब्ल्यु एसपी देवेन्द्र सिंह राजपूत ने शिकायत पर बालाघाट में रिटायर्ड सहायक यंत्री दयाशंकर प्रजापति और उनकी पत्नी के खिलाफ आय से ज्यादा 208 प्रतिशत संपत्ति अर्जित करने की जांच की जा रही है, जांच में 6 मकान और एक दर्जन से ज्यादा जमीनों के कागजात मिले है। इसके अलावा और भी जांच जारी है। पता किया जायेगा कि आखिर कैसे इन्होंने शासकीय सेवा में रहते हुए पत्नी के साथ कंपनी बनाई।

Read More : CBSE Compartment Exam 2022 : 10वीं-12वीं परीक्षा के लिए टाइम टेबल जारी, 23 अगस्त से शुरू होगी परीक्षा, जानें नियम और निर्देश

जिसमें पहले पत्नी और अब स्वयं डायरेक्टर हो गये। जिसकी जानकारी उन्हें शासन को दी गई की नहीं। वहीं आय पर यह इंकम टेक्स पेय कर रहे थे, की नहीं। मामले में कई बिंदुओ पर जांच की जा रही है। मामले में भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओ के तहत अपराध दर्ज किया गया है। जिसकी विवेचना उपपुलिस अधीक्षक मनजीतसिंह कर रहे है।

आर्थिक अपराध प्रकोष्ठ उप पुलिस अधीक्षक मनजीतसिंह ने बताया कि आय से अधिक संपत्ति की शिकायत के बाद विशेष न्यायालय से मिले वारंट के साथ रिटायर्ड सहायक यंत्री और उनकी पत्नी द्वारा आय से अधिक संपत्ति अर्जित करने के मामले में कार्यवाही की गई है। जिसमें 4 आलीशन मकान, वार्ड नंबर 22 में 2 मकान, बूढी में 5 प्लाट, गर्रा एवं गायखुरी में एक-एक प्लाट, बालाघाट शहरी क्षेत्र में 5 प्लाट, दो मोटर सायकिल और एक कार मिली है।

उन्होंने बताया कि अभी जांच जारी है, जांच के बाद ही कुछ कहा जा सकता है। इस पूरी कार्यवाही में उप पुलिस अधीक्षक मनजीतसिंह, निरीक्षक लक्ष्मी यादव, छविकांति आर्मो, निरीक्षक शशिकला मस्कुले, मोमेन्द्र मर्सकोले, उपनिरीक्षक कीर्ति शुक्ला सहित टीम के अन्य सदस्यों का सराहनीय सहयोग रहा।