कांग्रेस को लगा बड़ा झटका, 5 बार के विधायक और AICC के राष्ट्रीय सचिव ने पार्टी से दिया इस्तीफा

कांग्रेस

कोलकाता, डेस्क रिपोर्ट। कांग्रेस (congress) को एक बार फिर से बड़ा झटका लगा है। 5 बार के विधायक (MLA) रहे और ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) के नेशनल सेक्रेटरी मैनुल हक ने कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता सहित पार्टी से इस्तीफा दे दिया है। बताया जा रहा था कि वह पार्टी की कार्यशैली से खुश नहीं थे। जिसके बाद उन्होंने यह बड़ा कदम उठाया है।

पश्चिम बंगाल फर्राका विधानसभा क्षेत्र से कांग्रेस (congress) के पूर्व विधायक और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी (AICC) के राष्ट्रीय सचिव मैनुल हक (mainul haque) ने मंगलवार को अपने पद के साथ-साथ पार्टी से भी इस्तीफा (resign) दे दिया। कथित तौर पर, वह 23 सितंबर को तृणमूल कांग्रेस में शामिल होने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

मैनुल हक ने पार्टी आलाकमान को लिखे एक पत्र में कांग्रेस सुप्रीमो सोनिया गांधी और राहुल गांधी को एआईसीसी सचिव के रूप में सेवा करने का अवसर देने के लिए धन्यवाद दिया है। मैं इसके द्वारा INC की प्राथमिक सदस्यता से भी इस्तीफा देता हूं।

Read More: दिवाली से पहले पेंशनरों को मिला बड़ा तोहफा, DR में 356 फीसद का इजाफा

मैनुल हक ने दूसरी बार दिया इस्तीफा

दिलचस्प बात यह है कि मैनुल हक ने अपने निर्वाचन क्षेत्र में विकास की कमी का हवाला देते हुए 2018 में पार्टी छोड़ने के अपने फैसले की घोषणा की थी। एक रैली में अपने फैसले की घोषणा करते हुए हक ने आरोप लगाया था कि मैं अपने समर्थकों को सुरक्षा मुहैया नहीं करा पा रहा हूं। क्षेत्र में पूरी तरह अराजकता है। विकास पूरी तरह ठप हो गया है। हक़ ने कहा था कि मुझे लगा कि हम TMC में शामिल होने पर ही ऐसा कर सकते हैं।

हक़ ने कहा था कि बहुत काम करने की जरूरत है। मैं चाहता हूं कि यहां शांति बहाल हो। लोग शांति से रह सकेंगे। हक ने कई अन्य विधायकों के साथ जुलाई 2018 में टीएमसी में शामिल होने के लिए कांग्रेस को छोड़ दिया था। उन्होंने शीर्ष नेताओं के बीच समन्वय की कमी के लिए पार्टी की भी आलोचना की थी।

कांग्रेस नेता ने कहा कि राज्य में शीर्ष कांग्रेस नेताओं के बीच कोई समन्वय नहीं है। चूंकि मैं कांग्रेस का विधायक हूं, इसलिए राज्य सरकार की मेरे क्षेत्र में विकास की कोई योजना नहीं है। अगर मैं कोशिश भी करता हूं, तो भी विकास योजनाओं को सत्ताधारी दल विफल कर देता है। यह कब तक जारी रह सकता है?”

हक के इस्तीफे पर प्रतिक्रिया देते हुए, कांग्रेस नेता अधीर रंजन चौधरी (adhir ranjan choudhary) ने टिप्पणी की थी। उन्होंने तृणमूल कांग्रेस की आतंकी रणनीति के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। यह दुर्भाग्य है। कांग्रेस छोड़ने का उनका कारण अभी तक स्पष्ट नहीं है।